20 नवम्बर सांयकाल 3.21 बजे को श्री बदरीनाथ धाम के कपाट शीतकाल हेतु बंद कर दिये जायेंगें

Pahado Ki Goonj

गोपेश्वर: इस वर्ष श्रीचारधाम यात्रा दि0 14-नवम्बर तक श्री बद्रीनाथ धाम – 1036523,श्री केदारनाथ धाम – 732241,श्री गंगोत्री धाम – 447585,श्री यमुनोत्री धाम – 394395एवंश्री हेमकुण्ड साहिब-159163 पहुंचे जो अपने आप मे रिकार्ड है ।तीन धाम श्री यमनोत्री, श्री गंगोत्री धाम,श्री केदारनाथ धाम के कपाट पूूर्व में बंद 6माह के लिए बन्द किये गए हैं। अब महीनों में श्रेष्ठ माह मंगशीर्ष में 2,4पूजा करने केबाद श्री बद्रीनाथ के कपाट 6 माह के लिए बंद करने की परम्परा हैं। इस साल भू-वैकुण्ठ में बर्फ गिरने से धाम में मन मोहक छटा छटा से प्रकृति ने ज्यादा रौनक देकर यात्रा को रोमांचित कर दियाश्री बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के मुख्यकार्याधिकारी बी.डी.सिंह ने बताया कि रावल ईश्वरी प्रसाद नंबुदरी, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, अपर धर्माधिकारी राधाकृष्ण थपलियाल, अपर धर्माधिकारी सत्यप्रकाश चमोला, नायब रावल शंकरन नंबुदरी,वेदपाठी रविन्द्र भट्ट मंदिर के कपाट बंद करने की पंच पूजायें संपादित करवायेंगे । इस पावन अबसर की बेला के समय श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर सांयकाल 3 बजकर 21मिनट पर बंद होंगे। 16 नवंबर से कपाट बंद होने की प्रक्रिया के तहत पंच पूजायें शुरु हो जायेगी ।पंच पूजाओं में सर्वप्रथम 16 नवंबर श्री गणेश जी के कपाट बंद होंगे तत्पश्चात
17 नवंबर आदि केदारेश्वर मंदिर के कपाट बंद हो जायेंगे। 18 नवंबर खड्ग पुस्तक पूजन एवं
19 नवंबर दिन में लक्ष्मी जी का आवह्वान तथा 20 नवंबर सांयकाल 3 .21 मिनट श्री बदरीनाथ धाम के कपाट शीतकाल हेतु बंद कर दिये जायेंगें।
21 नवंबर प्रात: आदि गुरु शंकराचार्य जी की गद्दी जोशीमठ, श्री उद्धव जी एवं कुबेर जी की डोली पांडुकेश्वर प्रस्थान करेगी। मुख्यकार्याधिकारी बी.डी.सिंह ने बताया कि रावल ईश्वरी प्रसाद नंबुदरी, धर्माधिकारी भुवन चंद्र उनियाल, अपर धर्माधिकारी राधाकृष्ण थपलियाल, अपर धर्माधिकारी सत्यप्रकाश चमोला, नायब रावल शंकरन नंबुदरी,वेदपाठी रविन्द्र भट्ट पंच पूजायें संपादित करवायेंगे एवं 20 नवंबर को 3 बजकर 21 मिनट पर श्री बदरीनाथ धाम के कपाट शीतकाल के लिए बंद कर दिये जायेंगे। इस दौरान हजारों श्रद्धालुओं के कपाट बंद होने के अवसर पर पहुंजने की उम्मीद है,वहीं संपूर्ण बदरीपुरी सेना के बैंड की धुनों से गुंजायमान रहेगी। पुजारी हनुमान प्रसाद डिमरी के अनुसार श्री बदरीनाथ धाम के कपाट बंद होने की तिथि पर श्री माता मूर्ति मंदिर के कपाट भी शीतकाल हेतु बंद हो जाते हैं।श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने बताया कि यात्रावर्ष 2018 में श्री बदरीनाथ धाम पुुलिस के आंकड़े केे अनुसार14 नवंबर को 1504तीर्थयात्री पहुंचे।श्री बदरीनाथ के कपाट खुलने की तिथि 30 अप्रैल 2018से 14 नवंबर 2018तक 1036523 तीर्थयात्री श्री बदरीनाथ धाम के दर्शन हेतु पहुंचे हैं।
श्री केदारनाथ धाम में कपाट खुलने की तिथि 29 अप्रैल 2018से 9 नवंबर 2018 को कपाट बंद होने तक कुल 732241 तीर्थ यात्री पहुंचे,केदारनाथ में मंदिर समिति कर्मचारियों द्वारा तीर्थयात्रियों को सरल-सुगम दर्शन ब्यवस्थाओं हेतु सहयोग किया। अभी तक 1768764 श्री बदरीनाथ एवं श्रीकेदारनाथ पहुंचे हैं।।

इतना तो आपका हम सहयोग मिलने

की उम्मीद करते हैं

पोर्टल एंव यूट्यूब चैनल pahadon ki goonj देखें,24×7 शेयर कमेन्ट करना न भूले।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बर्फ गिरने के बाद श्री बदरीनाथ धाम के बारे में धर्माधिकारी भुवनचंद्र उनियाल का इनटरव्यु यूटयूब चैनल पर चल रहा है। इससे यात्रियों में बद्रीनाथ धाम आने की जिज्ञासा बढ़ रही है

माना गावँ में राज्यपाल श्रीमती बेबी रानी मौर्य का स्थानीय लोगों द्वारा स्वागत किया है। इस साल भू-वैकुण्ठ में बर्फ गिरने से अन्य सामाजिक संगठनों धाम में मन मोहक छटा छटा से प्रकृति ने ज्यादा रौनक देकर यात्रा को रोमांचित कर दिया। मंदिर की फूलों से सजा कर ज्यादा आकर्षित किया […]

You May Like