गैरसैंण पर सियासत जारी, राजधानी कैसी हो भाजपा तय करेगी

Pahado Ki Goonj

देहरादून। राज्य स्थापना के 19 साल बाद भी भले ही सूबे के नेता और सरकारों द्वारा सूबे की राजधानी पर कोई फैसला न लिया गया हो लेकिन राजधानी के मुद्दे पर सियासी घमासान कभी खत्म नहंीं हुआ है। कांग्रेस ने गैरसैंण में राजधानी की नींव तो रख दी लेकिन गैरसैंण की राजधानी का स्वरूप क्या होगा इस पर तकरार जारी है। भाजपा का कहना है कि हम ही तय करेंगे कि गैरसैंण में स्थायी राजधानी हो या अस्थायी।
पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने कांग्रेसी सत्ता के दौरान गैरसैंण में राजधानी की नींव रखी थी लेकिन वह भाजपा में चले गये और वर्तमान में सूबे में भाजपा की ही सरकार है। विपक्ष कांग्रेस का आरोप है कि यहंा कांग्रेस के कार्यकाल में जो कुछ काम हुए थे वही काम हुए है, उसके बाद कोई काम नहीं हुआ है। पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा ने अभी कहा कि राजधानी के ढांचागत विकास के लिए 50कृ60 करोड़ रूपये चाहिए जो सरकार के पास नहीं है। जिसकी वजह से काम आगे नहीं बढ़ पा रहा है। बहुगुणा ने गैरसैंण राजधानी को पहाड़ के सम्मान व स्वाभिमान से जुड़ा हुआ सवाल बताते हुए कहा कि गैरसैंण से राज्य आंदोलन की जड़े जुड़ी है इसलिए इस पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। विजय बहुगुणा के बयान पर पलट वार करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने कहा कि गैरसैंण में जो काम कराये गये वह हमने अपने बूते पर कराये है अब भाजपा की सरकार है तब वह यह क्यों कह रहे है कि संसाधन नहीं है सरकार वहंा काम करवाये।
स्थायी व अस्थायी राजधानी के मुद्दे पर भाजपा नेता व विधायक खजानदास का कहना है कि कांग्रेस को इसका क्या हक है कि वह राजधानी पर बात करे। जब उनकी सरकार थी तब उन्होने निर्णय क्यों नहंीं लिया था कि गैरसैंण में स्थायी राजधानी हो या अस्थायी। उनका कहना है कि इसका फैसला भाजपा ही करेगी। खैर फैसला होते होते 19 साल बीत चुके है लेकिन फैसला नहीं हो सका है। इसकी भी तिथि तय नहीं है कि राजधानी पर फैसला कब होगा हां इस पर सियासत जरूर होती रही है और आगे भी होती रहेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

83 के क्रिकेट नायक कपिलदेव पहुंचे रुद्रपुर, बोले धोने से कुछ सीखें उत्तराखण्ड के युवा

रुद्रपुर। 1983 के विश्व कप चैंपियन के नायक और अपनी बायोग्राफी पर बन रही फिल्घ्म को लेकर इन दिनों चर्चा में बने अंतरराष्घ्ट्रीय क्रिकेटर कपिल देव मंगलवार को रुद्रपुर पहुंचे। जहां उन्घ्होंने कहा कि उत्तराखंड हो या कोई और प्रदेश, खिलाड़ी इंडिया के लिए खेलें। ये बात उनके दिमाग में […]

You May Like