गणतंत्र दिवस पर दिखाई गई उत्तराखंड की झांकी को मिला तीसरा पुरस्‍कार

Pahado Ki Goonj

देहरादून। गणतंत्र दिवस पर विभिन्न राज्यों की झांकियों में उत्तराखंड की श्केदारखंडश् झांकी को तीसरे स्थान के लिए पुरस्कृत किया गया है। नई दिल्ली स्थित राष्ट्रीय रंगशाला शिविर में केंद्रीय राज्य मंत्री किरेन रिजिजू ने यह पुरस्कार प्रदान किया। उत्तराखंड के प्रतिनिधि और टीम लीडर श्री केएस चैहान ने राज्य की ओर से पुरस्कार प्राप्त किया। राज्य गठन के बाद उत्तराखण्ड द्वारा अनेक बार प्रतिभाग किया गया, परंतु यह पहला अवसर है जब उत्तराखंड की झांकी को पुरस्कार के लिए चुना गया है।
मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए कहा कि उत्तराखंड देवभूमि है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में 2013 की आपदा के बाद केदारनाथ धाम का पुनर्निर्माण कर इसे पहले से भी अधिक भव्य रूप प्रदान किया गया है। मुख्यमंत्री ने झांकी को पुरस्कार के लिए चुने जाने पर प्रदेशवासियों को बधाई देते हुए सचिव सूचना दिलीप जावलकर, सूचना महानिदेशक डॉ मेहरबान सिंह बिष्ट, टीम लीडर व उपनिदेशक सूचना केएस चैहान और झांकी बनाने वाले कलाकारों तथा झांकी में सम्मलित सभी कलाकारों को बधाई दी है। गौरतलब है कि राजपथ, नई दिल्ली गणतंत्र दिवस समारोह में उत्तराखंड राज्य की ओर से श्केदारखंडश् की झांकी प्रदर्शित की गई थी। उत्तराखंड सूचना विभाग के उपनिदेशकध्झांकी के टीम लीडर श्री केएस चैहान के नेतृत्व में 12 कलाकारों के दल ने भी झांकी में अपना प्रदर्शन किया। झांकी का थीम सांग श्जय जय केदाराश् था।
गणतंत्र दिवस परेड-2021 समारोह में उत्तराखंड राज्य की झांकी में सम्मिलित होने वाले कलाकारों में झांकी निर्माता सविना जेटली, मोहन चन्द्र पाण्डेय, विशाल कुमार, दीपक सिंह, देवेश पन्त, वरूण कुमार, अजय कुमार, रेनू, नीरू बोरा, दिव्या, नीलम और अंकिता नेगी शामिल थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

तिरंगे के अपमान के विरोध में पूर्व सैनिकों ने निकाली रैली

कोटद्वार। गणतंत्र दिवस के दिन दिल्ली के लाल किले पर किसानों के द्वारा हुए हिंसक प्रदर्शन और तिरंगे के अपमान के विरोध में पूर्व सैनिक, अर्धसैनिक और सामाजिक संगठन रैली निकाल कर तहसील परिसर पहुंचे। वहीं, पूर्व सैनिकों ने तहसीलदार के माध्यम से प्रधानमंत्री को ज्ञापन भेजा है। ज्ञापन में […]

You May Like