बेरोजगारी और पलायन हमारे उत्तराखंड के लिए सबसे बड़ा मुद्दा है

Pahado Ki Goonj

बेरोजगारी और पलायन हमारे उत्तराखंड के लिए सबसे बड़ा मुद्दा है
2 भौतिक संसाधन और उच्च शिक्षा भी हमारे उत्तराखंड में परिपूर्ण रूप से नहीं मिल पाती हमारे बच्चों को यह भी गंभीरता का विषय है
3 सबसे अहम मुद्दा यह है कि हमारे दुर्गम क्षेत्रों में इलाकों में अभी तक यातायात व्यवस्था उपलब्ध नहीं है और ना वहां पानी मिलता है और ना वहां बिजली टाइम पर मिलती है कई कई घर ऐसे हैं कई कई गांव ऐसे हैं जहां पर अभी तक बिजली और पानी से वंचित रखा गया है
4और सबसे महत्वपूर्ण मुद्दा जंगली जानवर से निजात करण क्योंकि अधिक से गांव जिला के परिवार के सदस्यों का आर्थिक हो जा भौगोलिक यू जमीन पर ही रखरखाव टिकट कॉउ और परिवार का पालन पोषण भरण पोषण होता है लेकिन दर्द नायक विषय यह है कि जंगली जानवर जो फसल बोई रहती है वह खाए तो कोई बात नहीं लेकिन वह टेस्ट नष्ट करके फसल को रौंद देते हैं जिस कारण से हमारे पहाड़ों का जो परिवार हैं उनको परिवार की पालन पोषण हेतु नहीं कर पाते हैं भली-भांति से मैं चाहता हूं कि सरकार ऐसे दुर्गम इलाकों में जो हमारी जमीन है गेट वाल लगाने का प्रबंधन किया जाए
मेरे प्यारे मित्रों और टीम अटल सेना के सभी उच्च पदाधिकारियों सदस्य गणों कार्यकर्ताओं अटल सेना के महिला मोर्चा उच्च पदाधिकारियों सदस्य गणों कार्यकर्ताओं मैं राज कुमार मंडल महासचिव घनसाली टीम अटल सेना मेरे मित्रों मैंने चार मुद्दे रखे हैं जो कि विचारणीय है और यह जो मुद्दे हैं यह वास्तविक रूप में हमारे उत्तराखंड में इन्हीं सभी मुद्दों के कारण उत्तराखंड में पलायन बहुत ज्यादा बढ़ रहे हैं मैं चाहता हूं कि जंगलात विभाग हमें जमीन के लिए गेट वालों का प्रवर्धन करवाएं और हाइडल विभाग हमें बिजली उत्पादन है तो घर घर में बिजली का जो व्यवस्था है उसको सुव्यवस्था में लाने की मांग की जाए तथा गवर्नमेंट को हमारी मांग को पूरा करना चाहिए और सबसे बड़ा मुद्दा यह है मेरे मित्रों हमारे दुर्गम इलाकों में दुर्गम क्षेत्रों में गांव में अभी तक परिपूर्ण रूप से यातायात व्यवस्था नहीं मिल पाती है जैसे कि आप लोग देख रहे होंगे ग्राम पंचायत कोट ग्राम पंचायत लोदस ग्राम पंचायत चोठरा ग्राम पंचायत आरश नेकवाड़ और अत्यधिक दुर्गम क्षेत्र ग्राम पंचायत गंगी घैंवाली ग्राम पंचायत निती माणा उत्तराखंड में अधिक से अधिक दुर्गम क्षेत्र ऐसे हैं कि जहां पर अभी तक यातायात व्यवस्था सुचारू रूप से नहीं मिल पाती है और हमें पैटर्न विभाग को तथा माननीय मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी से अपील करनी चाहिए कि उत्तराखंड सरकार हमारे दुर्गम क्षेत्र को यातायात की व्यवस्था उपलब्ध करवाएं मेरे मित्रों सबसे बड़ा विषय बेरोजगारी का है बेरोजगारी का विषय इसलिए है कि क्योंकि हमारे उत्तराखंड में लघु उद्योगों का अभाव बहुत कम है अगर हमारे उत्तराखंड में हमारे घनसाली छेत्र में लघु उद्योग खोले जाएं तो बेरोजगारी कम होगी मेरे मित्रों मैं चाहता हूं कि उत्तराखंड में छोटे छोटे उद्योग के लिए हमें मांग करनी चाहिए और उत्तराखंड सरकार और हमारे उत्तराखंड सरकार के मालिक मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत जी को इस बात को अपने संज्ञान में लेते हुए भारत सरकार को अवगत कराना चाहिए ताकि हमारे उत्तराखंड में छोटे छोटे लघु उद्योग अगर उपलब्ध हो जाए तो शायद मेरे नौजवान युवा साथी पीढ़ी का बेरोजगारी से मुक्त हो सकते हैं मेरे मित्रों काफी लोगों को रोजगार मिल सकता है और सभी परिवार के सदस्य सुखी शांत से अपना परिवार का निर्वाह कर सकते हैं पालन पोषण कर सकते हैं मेरे मित्रों सबसे बड़ा विषय यह है कि हमारे बच्चों को शिक्षा सुचारू रूप से नहीं मिल पाती है क्योंकि हमारे उत्तराखंड में हमारे दुर्गम इलाकों में जैसे की घनसाली छेत्र अभी तक कोई अच्छा सा इंग्लिश मीडियम कॉलेज नहीं है और ना वहां पर पॉलिटेक्निक कॉलेज है और ना वहां पर कोई मेडिकल कॉलेज है और नहा वहां पर केंद्रीय विद्यालय है और ना वहां पर सिलाई सेंटर है मेरे मित्रों आप सभी लोग भलीभांति से जानते हैं क्योंकि सभी लोग बाहर पड़े होंगे सभी लोग अच्छे पढ़े लिखे हैं जब हमारे बच्चे हरिद्वार दिल्ली ऋषिकेश देहरादून जैसी सिटियों में जब पढ़ने जाते हैं तो उनको वहां पर बहुत बड़ी कठिनाइयों का सामना करना पड़ता है और उनका जेब खर्चा उनका कमरे का किराया उनका खाना उनका पीना उन्हें बहुत ज्यादा महंगा पड़ जाता है मैं राजकुमार उत्तराखंड से सरकार से और भारत सरकार से अपील करता हूं और अपने सभी प्यारे मित्रों से भी अपील करता हूं कि हमें अपने क्षेत्र को उच्च शिक्षा प्रदान करना है तो हमें उत्तराखंड सरकार से भारत सरकार से अवगत कराना होगा कि हमारे दुर्गम इलाके जैसे घनसाली छेत्र मैं अगर इस तरह की कॉलेज इस तरह के स्कूल उच्च शिक्षा का प्रावधान हो जाए तो हमारे बच्चों को उच्च शिक्षा मिल सकती है और हमारे जो गरीब बिकती है जो उत्तराखंड में गरीबों के बच्चे हैं वह अपने घर से आना-जाना कर सकते हैं और वहां उच्च शिक्षा प्रदान कर सकते हैं उनको उच्च शिक्षा मिल सकती है क्योंकि मेरे मित्रों शिक्षा एक ऐसी चीज है शिक्षा इंसान को पवित्र बना देती है शिक्षा व मां का दूध है जो पियेगा वह दहाड़े गा और जो नहीं पिएगा वह जानवरों की तरह आवाज करेगा मेरे मित्रों शिक्षक का मिलना जरूरी है और जब तक हमारे उत्तराखंड में हमारे घनसाली छेत्र में यह व्यवस्था उपलब्ध नहीं होती है तब तक आपका भाई राजकुमार यूंही लिखता रहेगा अपनी आवाज भारत सरकार से उत्तराखंड सरकार तक जरूर पहुंचाएंगा ।यह राजकुमार
घनसाली निवासी के बिचार हैं।
संपर्क सूत्र=7088049876

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी एस.ए मुरूगेशन ने आगामी लोकसभा सामान्य निर्वाचन के सम्बंध में विभागों को निर्देश दिये हैं

देहरादून, 29 दिसम्बर 2018, मुख्य निर्वाचन अधिकारी, उत्तराखण्ड द्वारा आगामी लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2019 निर्वाचन के लिए मतदान/मतगणना कार्मिक आदि की व्यवस्था सुनिश्चित करने हेतु समय से डाटाबेस तैयार किये जाने हेतु दिये गये निर्देशों के क्रम में जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी एस.ए मुरूगेशन ने आगामी लोकसभा सामान्य निर्वाचन-2019 को सफल सम्पन्न […]

You May Like