गांधी नगर से आडवाणी का टिकट कटने की यह है पूरी कहानी

Pahado Ki Goonj

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह काफी समय से गांधीनगर सीट पर उम्मीदवार बदलना चाहते थे। अमित शाह खुद यहां से चुनाव लड़ने के इच्छुक थे, लेकिन भाजपा के संस्थापक, भारतीय राजनीति के सबसे उम्र दराज लालकृष्ण आडवाणी को क्रॉस कर पाना इतना आसान नहीं था। सूत्र बताते हैं इसके लिए प्रधानमंत्री ने खुद कई बार पहल की। कई बार चर्चा में आडवाणी से उनके चुनाव लड़ने का जिक्र छेड़ा, लेकिन आडवाणी ने पहले कभी स्पष्ट जवाब नहीं दिया

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार दिल्ली के रामलीला मैदान में राष्ट्रीय अधिवेशन तक शीर्ष नेतृत्व यह साहस नहीं जुटा पा रहा था। बताते हैं 75 साल से अधिक उम्र के लोगों को टिकट देने या न देने के निर्णय में भी सबसे.बड़ी बाधा आडवाणी ही थे। लेकिन ऑपरेशन बालाकोट ने भाजपा नेतृत्व और प्रधानमंत्री को उत्साह से भर दिया।

इसके बाद आडवाणी के सामने यह प्रस्ताव रखा गया कि वो गांधीनगर सीट से अपनी बेटी को प्रत्याशी बनाने की सहमति दे दें। लेकिन आडवाणी ने कहा कि, उन्होंने जीवनभर राजनीति में परिवारवाद का विरोध किया है। इसके बाद आडवाणी ने मंतव्य समझकर गांधीनगर से चुनाव न लड़ने की इच्छा जाहिर की और भाजपा के शीर्ष नेतृत्व ने प्रधानमंत्री से मशविरा करके उम्मीदवार बदल लिया। अब अमित शाह गांधीनगर से भाजपा का चेहरा होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कांग्रेस के मनीष खंडूड़ी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में की 10 बड़ी बातें

फ़्लैशकोटद्वार-कांग्रेस के गढ़वाल लोकसभा प्रत्याशी मनीष खंडूड़ी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में की 10 बड़ी बातें 1.विचारधारा की लड़ाई को लेकर कांग्रेस से लड़ रहा हूं चुनाव2.खंडूडी है मेरे पिता उनका करता हूं सम्मान लेकिन कांग्रेस के साथ है मेरी आस्था3.देश को है नेहरु,गांधी की विचारधारा की आवश्यकता4.बीसी खंडूडी का हमेशा […]

You May Like