अब सीएम तीरथ कैंप कार्यालय से देखेंगे सरकारी कामकाज

Pahado Ki Goonj

देहरादून। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत अब कैंट रोड स्थित कैंप कार्यालय से ही सरकारी कामकाज चलाएंगे। बुधवार को सीएम ने कैंप कार्यालय में पूजा-अर्चना कर विधिवत रूप से कामकाज की शुरुआत की है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत आखिरकार कैंट रोड स्थित कैंप कार्यालय में सरकारी कामकाज के लिए तैयार हो गए हैं। मुख्यमंत्री ने कैंप कार्यालय में पूजा-अर्चना की और विधिवत रूप से सरकारी कामकाज की शुरुआत की है। बता दें कि कैंट रोड स्थित कैंप कार्यालय और भवन को लेकर कई तरह की धारणाएं रही हैं। माना जाता रहा है कि इस कार्यालय और भवन में रहने वाले मुख्यमंत्री अपने 5 साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाते। ऐसे में माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत मुख्यमंत्री आवास में रहने नहीं जाने वाले. हालांकि, उन्होंने इसी भवन में स्थित कैंप कार्यालय में जाकर पूजा-अर्चना की और सरकारी कामकाज संभाल लिया है। बता दें कि यह उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में स्थित मुख्यमंत्री आवास बेहद खूबसूरती से बनाया गया है। एनडी तिवारी के बाद जितने भी मुख्यमंत्री उत्तराखंड में बने हैं वो अपने 5 साल का कार्यकाल पूरा नहीं कर पाए हैं। इस बंगले से साथ एक मिथक जुड़ा है कि जिस भी मुख्यमंत्री ने इसे अपना आवास बनाया, वो 5 साल पूरा नहीं कर पाया। इस लिस्ट में बीसी खंडूड़ी, रमेश पोखरियाल निशंक, विजय बहुगुणा और अब त्रिवेंद्र सिंह रावत का नाम भी शामिल है। हालांकि, हरीश रावत के बारे में यही कहा जाता है कि वह अंत समय तक भी इसमें दाखिल नहीं हुए। उन्होंने बीजापुर में ही अपना आवास बनाकर परिवार को वहीं पर रखा। मौजूदा मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत भी पाठ पूजा और धार्मिक मान्यताओं को मानने वाले हैं। ऐसे में उम्मीद यही जताई जा रही है कि वह इस आवास में न रहकर सेफ हाउस और अपने खुद के आवास पर ही रहेंगे। फिलहाल, तीरथ सिंह रावत का नया ठिकाना सेफ हाउस बना हुआ है। हालांकि, मुख्यमंत्री पद से हटने के बाद अभी भी पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस आवास को नहीं छोड़ा है। कहा जा रहा है कि उनके अपने आवास पर अभी रिनोवेशन का काम चल रहा है, जैसे ही वह पूरा होगा त्रिवेंद्र सिंह रावत अपने घर में प्रवेश करेंगे। जो भी हो लेकिन बेहद खूबसूरत बना यह मुख्यमंत्री आवास मुख्यमंत्रियों के लिए ही नहीं बल्कि आम जनता के लिए भी चर्चा का विषय जरूर रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पिछले अर्द्धकुम्भ में बिछड़ गई थी महिला, 5 साल में फिरलोट कर घर नहीं गई

The woman was separated in the last Ardh Kumbh, did not go home after turning in 5 years हरिद्वार: हरिद्वार कुम्भ नित नई गाथाये अपने पन्नो में पिरो रहा है, जहां इस वर्ष खोया पाया केंद्र ने 400 लापता लोगों को अपनो से मिलाया है। वही एक आश्चर्यजनक घटना घटित […]

You May Like