आज अंतरिक्ष मे इसरो रचेगा नया इतिहास

Pahado Ki Goonj

आज अंतरिक्ष मे इसरो रचेगा नया इतिहास

श्रीहरिकोटा: इसरो के बैज्ञानिकों की अशीम लगन एंव मेहनत फलस्वरूप
अंतरिक्ष विज्ञान में लगातार आयाम गढ़ता भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) अंतरिक्ष के क्षेत्र में एक और ऊंची छंलाग कुछ समय बाद लगाने वाला है। इसरो की यह पूर्ण रूप से व्यावसायिक उड़ान होगी। इसके साथ कोई भी भारतीय उपग्रह नहीं भेजा जाएगा।

इसकी शुरुआत रविवार 16 सितंबर, 2018 सुबह को होगी, जब भारतीय राकेट श्रीहरिकोटा के सतीश धवन अंतरिक्ष केंद्र से दो बिट्रिश उपग्रहों के साथ उड़ान भरेगा। इस कामयाबी के साथ ही भारत उन देशों की श्रेणी में शामिल हो जाएगा, जिसके पास विदेशी उपग्रहों को अंतरिक्ष में स्‍थापित करने या भेजने की अपनी तकनीक मौजूद है।

आज 16 सितम्बर रविवार को इसरो अपने ध्रुवीय उपग्रह प्रक्षेपण यान PSLV C-42 दो ब्रिट्रिश उपग्रह- नोवासार और एस 1- 4 को धरती की कक्षा में स्‍थापित करेगा। 450 किलोग्राम वजन के इन उपग्रहों का निर्माण ब्रिट्रिश कंपनी सर्रे सैटेलाइट टेक्नोलॉजी लिमिटेड (एसएसटीएल) ने किया है।

इस सम्बंध में भारतीय अंतरिक्ष अनुसन्धान संगठन की वाणिज्यिक इकाई एन्ट्रिक्‍स कोर्पोरेशन लिमिटेड से इसके प्रक्षेपण का करार हुआ था। उपग्रह नावासार एक तकनीक प्रदर्शन उपग्रह मिशन है। इसमें कम लागत वाला एस बैंड सिंथेटिक रडार भेजा जाएगा। इसे धरती से 580 किलोमीटर ऊपर सूर्य की समकालीन कक्षा (एसएसओ) में स्‍थापति किया जाएगा।

उपग्रह एसन 1-4 एक भू-अवलाकेन उपग्रह है, जो एक मीटर से भी छोटी वस्‍तु को अंतरिक्ष से देख सकता है। ये उपग्रह एसएसटीएल के अंतरिक्ष से भू अवलोकन की क्षमता को बढ़ाएगा। इसरो की यह पूर्ण रूप से व्यावसायिक उड़ान होगी। खास बात यह है कि इसके साथ कोई भी भारतीय उपग्रह नहीं भेजा जाएगा। नये इतिहास रचने केलिये

जीतमणि पैन्यूली सम्पादक न्यूज पोर्टल ,
पहाड़ों की गूंज राष्ट्रीय हिंदी सप्ताहिक समाचार पत्र एवं ,पूर्व संरक्षक श्री बद्रीनाथ केदारनाथ समिति कर्मचारी संघ एवं संयोजक उत्तराखंड पत्रकार संगठन समन्वय समिति की ओर से इसरो के नये मिशन की सफलता के लिए अनेकानेक शुभकामनाएं ।

 

 

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सूर्य भगवान को प्रातः जल चढ़ाना चाहिए

सूर्य भगवान को प्रातः जल चढ़ाना चाहिए सूर्य भगवान को प्रातः जल चढ़ाना चाहिए आज रविवार को तुलसी माता को जल नहीं चढ़ना चाहिए सूर्य भगवान को प्रातःस्नान कर जल चढ़ाना चाहिए हमारे जीवन में अच्छे कार्य करते रहने केलिये सूर्य नारायण भगवान अपने प्रकाश से अंधकार को चीरते हुए […]

You May Like