के.आई.आई.टी. ने शीर्ष भारतीय विश्वविद्यालयों में अपना स्थान बरकरार रखा

Pahado Ki Goonj
  भुवनेश्वर। टाइम्स हायर एजुकेशन एशिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग्स 2021 द्वारा कलिंगा इंस्टीच्यूट ऑफ इंडस्ट्रियल टेक्नोलॉजी (के.आई.आई.टी.) डीम्ड विश्वविद्यालय, भुवनेश्वर को भारतीय विश्वविद्यालयों के ओवरआल कैटेगरी में 30वाँ स्थान दिया गया है। इसने देश में जनरल इंजीनियरिंग (ओवरआल कैटेगरी) में 15वाँ रैंक हासिल किया है। हर वर्ष की भाँति के.आई.आई.टी. ने भारत के शीर्ष संस्थानों जैसे आई.आई.टी. एन.आई.टी. और कुछ निजी यूनीवर्सिटीज में अपना स्थान बरकरार रखा है। रैंकिंग में के.आई.आई.टी. डीम्ड विश्वविद्यालय का प्रदर्शन अधिक प्रशंसनीय है क्योंकि यह कई विषयों के साथ 200 से अधिक शैक्षणिक कार्यक्रम प्रदान करता है। यदि के.आई.आई.टी. में शैक्षणिक कार्यक्रम (academic programmes) कम होते तो यह बहुत अधिक रैंकिंग प्राप्त करता। टाइम्स हायर एजुकेशन एशिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग्स 2021, शिक्षण (teaching), अनुसंधान (research), उद्धरण (citations), ज्ञान हस्तांतरण (knowledge transfers) और अंतर्राष्ट्रीय दृष्टिकोण (international outlook) के सभी प्रमुख क्षेत्रों में विश्वविद्यालयों का न्याय करती है। रैंकिंग्स के अनुसार के.आई.आई.टी. डीम्ड यूनीवर्सिटी ने भारत के सभी सार्वजनिक (public) और निजी (private) विश्वविद्यालयों के बीच समग्र श्रेणी (overall category) में संतोषजनक प्रदर्शन किया है।
टाइम्स हायर एजूकेशन (टी.एस.ई.) की एशिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग्स 2021 में प्रवेश करने वाले मुट्ठी भर भारतीय विश्वविद्यालयों में से के.आई.आई.टी. एक है। सूची (list) में जगह बनाने वाला यह ओडिशा का एकमात्र डीम्ड विश्वविद्यालय है। एशिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग्स ने एशिया में सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों पर ध्यान केन्द्रित किया और शिक्षण, अनुसंधान, इंटरनेशनल आउटलुक और औद्योगिक उत्पादन के व्यापक मानकों का उपयोग किया इससे पहले, के.आई.आई.टी. डीम्ड यूनीवर्सिटी पूर्वी भारत और ओडिशा से प्रतिष्ठित ‘‘द एशिया यूनिवर्सिटी रैंकिंग्स” में प्रवेश करने वाला एकमात्र स्व-वित्तपोषित (self-financing) विश्वविद्यालय बन गया, जो दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विश्वविद्यालयों की सूची में 50 वर्ष या उससे कम उम्र के हैं। एक विश्वविद्यालय के रूप में के.आई.आई.टी. केवल 17 वर्ष और संस्थान के रूप में 24 वर्ष पुराना है। यह उच्च शिक्षा संस्थानों की विभिन्न वैश्विक रैंकिंग्स में भी लगातार प्रभावशाली स्थान प्राप्त कर रहा है। वहाँ के स्टाफ, छात्रों, मैनेजमेन्ट और के.आई.आई.टी. और के.आई.एस.एस. दोनों के शुभचिंतकों ने इस उपलब्धि पर तहे दिल से धन्यवाद दिया और के.आई.आई.टी. और के.आई.एस.एस. के संस्थापक, डॉ. अच्युत सामंत को दुनिया भर में शीर्ष स्तर के विश्वविद्यालयों के बीच इस तरह के प्रतिष्ठित रैंकिंग पाने वाले उनके दृष्टिकोण के लिए आभार व्यक्त किया। ‘‘के.आई.आई.टी. भारत के सबसे प्रतिष्ठित संस्थानों जैसे आई.आई.टी., एन.आई.टी. और अन्य प्रतिष्ठित विश्वविद्यालयों के बराबर प्रदर्शन कर रहा है। यह के.आई.आई.टी. की सफलता है।”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पेयजल मंत्री बिशन सिंह चुफाल पहुंचे उत्तरकाशी, 270.60 लाख की लागत से नवनिर्मित पम्पिंग पेयजल योजना का किया लोकापर्ण ।

पेयजल मंत्री बिशन सिंह चुफाल पहुंचे उत्तरकाशी, 270.60 लाख की लागत से नवनिर्मित पम्पिंग पेयजल योजना का लोकापर्ण किया। उत्तरकाशी ( मदनपैन्यूली) प्रदेश के पेयजल,वर्षा जल संग्रहण, निमार्ण एंव जनगणना मंत्री बिशन सिंह चुफाल आज उत्तरकाशी पहुंचे। विकास खंड डुण्डा के ग्राम वीरपुर में डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी राष्ट्रीय रूर्बन […]

You May Like