विजिलेंस आल इंडिया ई आ में साइंस ऋषिकेश में चाहे तो करेगी बिचौलियों का मुह काला

Pahado Ki Goonj

 

संविदा/अनुबंध पर अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान ऋषिकेश नौकरी घोटाला

उत्तराखण्ड राजनैतिक स्वाभिमान मंच के राजेश्वर पैन्यूलीने जाँच की माँग की
संविदा,अनुबंध पर लोगों को नौकरी देने में कैसे करते हैं घोटाला संविदा ठेकेदार / नेता /सत्ताधारी l
संविधा पर लोगों को रखने का ठेका दिया जाता है बहुत सी शर्तो के साथ l उनमे यह शर्त भी होती है कि ठेकेदार किसी से भी जमानत या किसी और नाम से पैसा नहीं लेगा,नियम के अनुसार PF / ESI काटेगा , सेलरी बैंक अक्काउन्ट में देगा और सबको बतायेगा कि वो सिर्फ ठेके पर एक सीमित समय के लिए रखे गए हैं l
पर हो क्या रहा है कि संविदा-ठेकेदार लोगों को झांसा देकर सिक्योरीटी के नाम पर मोटी रकम लेता है , सेलरी अपनी मर्जी से देता है , लोगों को सपने दिखाता है कि नौकरी पक्की हो जायेगी आदि आदि l नेता / सत्ताधारियो को भी खुश रखता है उनके चहीते को संविदा पर रख कर और कुछ मामलों में वो भी भागीदार होते हैं पैसे की बन्दर बांट में l
क्या यह बात सरकार या सत्ताधारी के बिना जानकारी के होती है। कोई भी नहीं मानता की यह सब बिना सत्ताधारियो और अधिकारियो की मिलिभगत के होता है l
अभी ताजा घटना ऋषिकेश उत्तराखण्ड की है लोगों से एसी खबर आ रही है कि यहां 1000 के करीब लोगों को संविदा पर रखा जा रहा है और तथा कथित ठेकेदार और बिचोलिये Rs. 2-3 लाख रूपये लोगों से ले रहे हैं , हो सकता है यह बातें पूरी तरह से सही ना हों l
पर क्या सरकार को एसी खबर नहीं आ रही ? और आ रही है तो AIIMS के अधिकारी कोई कार्यवाही क्यू नहीं कर रहे ? विजलेंस विभाग क्या कर रहा है क्यूँ नहीं पूरी जाँच की जाती , हर व्यक्ति/संविदा पर रखे गए लोगों से डिटेल और शपथपत्र क्यूँ नहीं लिया जा रहा है कि वो एसी कोई पैसे की लेन देन में सामिल नहीं थे ??
ठेकेदार ने कैसे लोगों को चयन किया है ? कोई इन्टरवियु हुआ है ? लिखित परिक्षा ली हैं ? उसके पास कोई ड़ाटा बैंक है प्रश्न पूूूछते है।क्या यह तरिका लोगों के चयन का है ।
वैसे तो सरकार की संविंदा में रखने की परम्परा हमेशा से सिर्फ एक शोषण करने का रास्ता है वो चाहे टीचर हो , उपनल के माध्यम से हों ..यह सारे रास्ते राजनितिक और अधिकारी की
मिलि भगत का परिणाम है ज़िसे तुरंत खत्म किया जाना चाहिये l
सरकार और AIIMS , ऋषिकेश के अधिकारियों और अधिकारियों से विनम्र निवेदन हैं कि तुरंत जांच करें और अखबार में पूरी जानकारी भी प्रकाशित करें कि जिस तरह से लोग संविदा पर रखे जा रहे हैं . अब तक जो लोग रखे गए उनका चयन कैसे हुवा ? यह कोई मामुली घोटाला नहीं Rs. 100 करोड से ऊपर का होगा राजेश्वर पैन्युली ने जांच

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

घर के वास्तु दोष दूर करें

घरके वास्तु दोष दूर करें ???? ?१. घर में सुबह सुबह कुछ देर के लिए भजन अवशय लगाएं । ?२. घर में कभी भी झाड़ू को खड़ा करके नहीं रखें, उसे पैर नहीं लगाएं, न ही उसके ऊपर से गुजरे अन्यथा घर में बरकत की कमी हो जाती है। झाड़ू […]

You May Like