शंदेश हिमालय पुत्र, वीर सपूत, माटी के लाल कर्नल अजय कोठियाल के नाम

Pahado Ki Goonj

हिमालय पुत्र, वीर सपूत और माटी के लाल कर्नल अजय कोठियाल (कीर्ति चक्र, शौर्य चक्र, वीएसएएम) जी के नाम संदेश

आपने भारतीय सेना के सर्वोत्तम देशभक्ति और देश सेवा की परम्परा का निर्वहन करते हुए युवाओं और भावी पीढ़ी के लिए अनुकरणीय उदाहरण प्रस्तुत किया है। जहां आपने देश की सीमाओं पर दुश्मनों के दांत खट्टे किये हैं वहीं आतंकवादियों को भी सबक सिखाने का काम किया है। आपके अद्वितीय साहस, वीरता और कर्तव्यनिष्ठा के चलते देश ने आपको कीर्ति चक्र, शौर्य चक्र और वीएसएम प्रदान किया है।

वर्ष 2013 की केदारनाथ आपदा ने केदारघाटी के साथ ही समस्त जनमानस को झकझोर दिया था। इस भीषण और भयावह आपदा में हजारों लोगों ने अपनी जान गंवा दी थी। मंदाकिनी के रुौद्र रूप ने केदारनगरी को तहस-नहस कर दिया था। बाबा केदार के दर्शनों के लिए केदारनाथ तक पहुंचना असंभव सा लग रहा था। शासन-प्रशासन को जब कोई राह नहीं सूझी तो आप करोड़ों भारतीयों की आस्था के केंद्र के लिए रोशनी की एक किरण बनकर उभरे और देखते-देखते इस किरण ने केदारधाम में रोशनी का पुंज बनने का काम कर दिया। जो काम अंसभव सा नजर आ रहा था

आपके कुशल मार्गदर्शन, विषम परिस्थितियों से जूझने की ललक और चुनौतियों के साथ लड़ने का साहस का परिणाम यह निकला कि आज आस्था का यह केंद्र एक बार फिर तीर्थयात्रियों से गुलजार है। केदारपुरी की कायाकल्प और भारतीयों की आस्था के केंद्र में समस्त बुनियादी सुविधाएं उपलब्ध कराने का महान श्रेय आपको और आपकी टीम को जाता है। यह असंभव सा कार्य आपके बुलंद हौसले के कारण ही संभव हो पाया है।

हम आपके आभारी हैं कि आपने पहाड़ के नौजवानों को सम्मान से जीने की राह भी दिखाई है। आप प्रदेश के नौजवानों व युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत हैं। आपने नौजवानों को न सिर्फ देशभक्ति, सेवा और कर्तव्यपरायणता का पाठ पढ़ाया अपितु इन बेरोजगार और राह न सूझने वाले नौजवानों और युवाओं को सेना में भर्ती के लिए निशुल्क प्रशिक्षण की व्यवस्था भी की है। आपकी इस नेकनीयती और देशभक्ति पर हर हिंदुस्तानी को नाज है। आपके प्रशिक्षण का परिणाम है कि कुछ ही समय में देश को आपके कुशल प्रशिक्षण के माध्यम से तीन हज़ार से भी अधिक जवान भारतीय फौज को मिल चुके हैं।

आपने देशभक्ति और समाज सेवा के साथ ही पहाड़ की माटी और थाती के प्रति जो लगाव व निष्ठा दिखाई है वह युवाओं और भावी पीढ़ी के लिए प्रेरक साबित होगी। साथ ही हमें उम्मीद है कि पहाड़ के कुछ सक्षम और संपन्न लोग भी आपके इस सेवा भाव और माटी से जुड़ाव को समझेंगे और युवाओं व नौजवानों के स्किल्ड डेवलपमेंट और रोजगार के लिए आगे आएंगे। आप हमारे आदर्श हैं और आपसे पहाड़ के युवाओं और जनता को ढेरों उम्मीदें हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कर्मियों ने की पेयजल निगम के कार्यालयों में तालाबंदी

देहरादून : वेतन का समय पर भुगतान ना होने से गुस्साए प्रदेश भर के पेयजल कर्मियों ने निगम के कार्यालयों में तालाबंदी कर कार्य बहिष्कार आरंभ कर दिया। पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत पेयजल निगम के देहरादून स्थित मुख्यालय में समस्त कर्मियों ने सुबह तालाबंदी कर दी। इसके बाद वे […]

You May Like