ऋषिगंगा स्ट्रीम पर बनी झील को लेकर पुलिस अलर्ट

Pahado Ki Goonj

देहरादून। चमोली में ऋषिगंगा के अपर स्ट्रीम में बनी झील को लेकर उत्तराखण्ड पुलिस भी अलर्ट मोड में आ गई है। यहां बन रही झील से वैसे तो खतरा नहीं होने की बता वैज्ञानिकों और एसडीआरएफ द्वार की जा रही है लेकिन फिर भी एहतियातन पुलिस ने अलर्ट पर है। आपदा से सबक ले कर पुलिस प्रशासन अब किसी भी तरह का रिस्क लेने के मूड में नहीं हैं। उधर तपोवन टनल में रेस्क्यू कार्य के सातवें दिन भी राहत एवं बचाव कार्य जोरों पर चलाया गया। वहीं एसडीआरएफ और स्थानीय प्रशासन आपदा से प्रभावित क्षेत्रों में राशन पहुंचाने के कार्य में जुटा हुआ है।
उल्लेखनीय है कि ऋषिगंगा कैचमेंट एरिया से निकली तबाही के बाद राहत एवं बचाव कार्य में जुटी टीम तब सकते में आ गई जब यह पता चला कि ऋषिगंगा नदी पर एक और झील बन रही है। इसके बाद से इस झील से होने वाली तबाही के बारे में सोच कर ही स्थानीय लोगों में दहशत हो गई थी लेकिन एसडीआरएफ द्वारा ऋषिगंगा पर बनी झील की धरातलीय रिपोर्ट सौंपे जाने के बाद सभी ने राहत की सांस ली है। इस रिपोर्ट के अनुसार ऋषिगंगा में बनी नई झील से पानी का रिसाव शुरू हो चुका है और इससे अब कोई खतरा नहीं है।
इस खबर की पुष्टि के बाद राहत एवं बचाव कार्य में जुटी मशीनरी ने राहत की सांस ली है कि वहीं स्थानीय लोगों भी डर से बाहर आ गये हैं। इसके बावजूद पुलिस महकमे ने इस बार किसी भी तरह का रिस्क लेने की बजाय अभी से खतरे से निपटने के लिए तैयारियों पर जोर देना शुरू कर दिया है।
डीजीपी अशोक कुमार के अनुसार पेंग गाँव, रैणी और तपोवन में अलार्मिंग सिस्टम लगाया जाएगा। सिस्टम लगने तक एसडीआरफ की टीम झील की निगरानी करेगी। झील के पास ही एसडीआरएफ द्वारा अस्थाई हेलिपैड का निर्माण भी किया जायेगा। विदित हो कि एसडीआरएफ के 8 सदस्यों की टीम शुक्रवार को झील की रेकी के लिए गई थी।
उधर जिलाधिकारी स्वाति एस भदौरिया ने आपदा प्रभावित साइड तपोवन व रैणी में चल रहे राहत एवं बचाव कार्यों का निरीक्षण करते हुए कार्यों तेजी लाने के निर्देश दिए।
इस दौरान जिलाधिकारी ने पूछताछ केन्द्र तपोवन में परिजनों से मिल कर उन्हें ढाढस बंधातें हुए राहत कार्यों की जानकारी दी। डीएम ने कहा कि टनल में जाने के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। साथ ही विभिन्न स्थानों पर मलबे से लापता लोगों की तलाश की जा रही है।
बताया कि रैणी क्षेत्र में 4 एक्साबेटर, 1 डोजर मशीन मलबे में शवों की तलाश कर रही है। रैणी में लोकल लोगों एवं परिजनों से मिल रही जानकारी एवं पुरानी फोटो के आधार पर कंपनी के आवास, आफिस, स्टोर और जहां पर भी संभावना लग रही है वहां पर मलबा हटाया जा रहा है। इसके अलावा तपोवन बैैराज साइड में कुछ लोग गिरते हुए देखे गए थे। वहां पर भी एप्रोच बनाया जा रहा है जिससे यहां पर एक्साबेटर को उतार कर मलवे से लापता लोगो की तलाश की जा सके।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

महिला शक्ति ट्रस्ट नौगांव ब्लॉक कार्यकारणी ने लिया विधवाओं को दी जाने वाली सुविधाओं के बारे मे ब्यापक प्रचार प्रसार करने का संकल्प ।

महिला शक्ति ट्रस्ट नौगांव ब्लॉक कार्यकारणी ने लिया विधवाओं को दी जाने वाली सुविधाओं के बारे मे ब्यापक प्रचार प्रसार करने का संकल्प ।। उत्तरकाशी/ नौगांव। रिपोर्ट (मदनपैन्यूली) —————————————————————-शनिवार उत्तरकाशी जनपद के महिला शक्ति ट्रस्ट नौगांव ब्लॉक कार्यकारणी की बैठक आयोजित की गई ,जिसमे महिला शक्ति […]

You May Like