नैनिताल में आंतक के ख़ौप से पर्यटक

Pahado Ki Goonj

नैनिताल में साँप के घुसने से उसके जहरीले होने के आंतक के ख़ौप से पर्यटक सहमे रहे।नैनीताल के एक  होटल में 14 फ़ीट लम्बे किंग कोबरा सांप के आने से दहशत फैल गई । ये नर सांप होटल के भीतर  शाम को घुसा था और तब से   लगभग 24 घण्टे तक जमा रहा । होटल प्रबंधन ने सांप की मौजूदगी की सूचना वन विभाग और पुलिस को भी दी । सूचना मिलने पर वन विभाग की तरफ से वरिष्ठ प्रबंधक कल्याण सिंह सजवाण और स्नेक कैचर(सांप पकड़ने का माहिर) निमिष दानू वहां पहुंचे । निमिष ने होटल के किचन क्षेत्र में घुसे किंग कोबरा सांप को बमुश्किल कब्जे में लिया । उसने बताया कि सांप इतना जहरीला है कि इसके काटने के एक मिनट के भीतर आदमी की मौत हो जाएगी और ये सांप एकसाथ दस लोगों को मौत के घाट उतार सकता है ।
निमिष दानू के अनुसार उन्होंने अपने साथियों के साथ मिलकर गुरुवार को भी रात बारह बजे तक इस जहरीले सांप की तलाश की थी । सूचना आई तो उन्होंने तत्काल होटल पहुंचकर स्नेक कैचर स्टिक की मदद से कोबरा सांप की तलाश शुरू कर दी । निमिष ने पैरों में सुरक्षा कवच के साथ हाथों में दस्ताने पहने और स्टिक लेकर किचन की संकरी गली में घुस गया । सामने से जहरीला सांप निमिष का जैसे इंतजार कर रहा था । फन उठाए कोबरा सांप ना केवल खौफनाक लग रहा था बल्कि उसे पकड़ना भी बेहद जानलेवा दिख रहा था । ऐसे में होटल में रुके पर्यटकों की सांसें अटक गई । सभी अपने कमरों के जंगलों से झांककर सांप को काबू करने का नजारा देख रहे थे । होटल के स्टाफ की भी सांप की दहसत से सासें तेज हो गई थी क्योंकि पिछले 24 घण्टे से वो उनके कार्यक्षेत्र में ही मंडरा रहा था।निमिष के प्रयास से एकदम सांप पर काबू कर लिया गया और उसे एक डब्बे में संभालकर सुरक्षित रखा गया । इस बेहद जहरीले सांप को लेकर वन विभाग की टीम ज़ू को चले गई और उन्होंने बताया कि सांप के स्वास्थ्य परीक्षण के बाद उसे उसके प्राकृतिक वास में छोड़ दिया जाएगा ।विपुल पैन्यूली

Next Post

अदम्य साहस देखें उत्तराखंड के

उत्तराखंड टिहरी गढ़वाल के आखिरी गाँव मेड गावँ थाति कथूड टिहरी गढ़वाल एक लघु उद्योग ग्राम है आज भी अपनी संस्कृति की धरोहर जीवित रखे हुए है ।पांडव नृत्य  पांडवों के उत्तराखंड आगमन के समय से मनाया जाता रहा है  यह नृत्य अपने खुशहाली के लिये मनाने का रिवाज है […]