मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन निर्माण के प्रगति की समीक्षा की

Pahado Ki Goonj

देहरादून:सचिवालय में मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह ने ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेल लाइन निर्माण के प्रगति की समीक्षा की। बैठक में बताया गया कि ऋषिकेश-कर्णप्रयाग रेलवे लाइन के निर्माण का कार्य शुरू हो गया है। 125.20 कि0मी0 की लम्बाई में बनने वाली इस नई रेलवे लाइन में 16216 करोड़ रूपये की लागत आयेगी। वीरभद्र रेलवे स्टेशन से 6 कि0मी0 तक रेल लाइन निर्माण की सभी औपचारिकताएं पूरी कर ली गई है। चंद्रभागा नदी पर पुल का निर्माण हो रहा है। 6 कि0मी0 तक का निर्माण कार्य अवार्ड कर दिया गया है। बताया गया कि रेलवे लाइन का 85 प्रतिशत हिस्सा टनल (सुरंग) से होकर जायेगा। यानि 125 कि0मी मे 105 कि0मी0 की 17 टनल बनेगी। मात्र डेढ़ घंटे में ऋषिकेश से कर्णप्रयाग पहुंचा जा सकेगा। इससे तीर्थ यात्रियों और स्थानीय लोगों की यात्रा सुगम हो जायेगी।

बैठक में बताया गया कि 98.54 कि0मी0 एस्केप टनल का निर्माण भी किया जायेगा। इस तरह से 218 कि0मी0 टनल बनाया जायेगा। 2835 मीटर लम्बाई में 16 पुलों का निर्माण होगा। 100 कि0मी प्रति घंटे की स्पीड से ट्रेन चलेगी। माल गाड़ियों की गति 65 कि0मी0 रखी जायेगी। रेलवे लाइन के निर्माण में 791 हेक्टेयर भूमि का इस्तेमाल होगा। इसमें 564 हेक्टेयर वन भूमि, 60 हेक्टेयर सरकारी भूमि, 167 हेक्टेयर निजि भूमि के अधिग्रहण की कार्यवाही अंतिम चरण में है। बताया गया कि इसके अलावा चार धाम रेल कनेक्टिविटी की 327 कि0मी0 रेल लाइन का फाइनल लोकेशन सर्वे हो गया है। तकनीकी परीक्षण का कार्य चल रहा है।
बैठक में सचिव परिवहन डी0सैंथिल पांडियन, सचिव वन अरविंद सिंह हयांकी, नोडल अधिकारी विनोद सिंहल, परियोजना निदेशक रेलवे विकास निगम लिमिटेड हिमांशु बडोनी सहित अन्य वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से इंडोनेशिया के शिष्टमण्डल ने भेंट की

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत से सोमवार को मुख्यमंत्री आवास कार्यालय में इंडोनेशिया के जनप्रतिनिधियों के शिष्टमण्डल ने आई नियोमन बुडितमा के नेतृत्व में शिष्टाचार भेंट की। उन्होंने भारत में श्रम, स्वास्थ्य एवं शिक्षा से सम्बन्धित नीतियों एवं योजनाओं के साथ-साथ उत्तराखण्ड में संचालित विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं तथा उनके क्रियान्वयन आदि […]

You May Like