uttarakhand

हमको इस्तेमाल किया गया जब कार्य पूर्ण होने पर प्लासटिक गिलास की तरह फेक दिया गया इन्होने कभी भी पी आर डी को ऐक फोर्स दर्जा नही दिया गया

Pahado Ki Goonj

सभी पी आर डी जवानो को बेतन बढ़ोतरी पर सभी को ढेर सारी बधाई

दोस्तों हमे नही लगता कि इसमे हम लोगो को ज्यादा कुछ सफलता मिली हो जो हम सरकार से सन्तुुष्ट हो क्यो कि अभी जो सीजन ड्यूटी आ रखी है वो चमोली जिले मै मात्र प्रत्येक विकासखंड से आठ (8) जवान मागे गये है तो इस हिसाब से कुल 104+5 जवान या कहे तो चाहे वर्तमान सरकार हो या60 साल वाली सरकार रही हो इनके नजरो मै हम लोग एक प्रकार से बंधुवा मजदूर से ज्यादा कुछ नही रहे और हम लोगो एक प्रकार से छल करते हुये पी आर डी जवान बता कर छला गया है जबकी हम लोग यातायात से लेकर शांति व्यव्स्था से लेकर राजस्व पुलिस के साथ समय समय पर जैसे शासन प्रसाशन को हमारी सेवा की आवश्कता पढी है

हमको इस्तेमाल किया गया जब कार्य पूर्ण होने पर प्लासटिक गिलास की तरह फेक दिया गया इन्होने कभी भी पी आर डी को ऐक फोर्स दर्जा नही दिया गया जब कि काम तथा संगठन का उदेश्य संगठित जवानो की भांति रहा है लेकिन अब समय आ गया है कि सभी लोग एक होकर प्रदेश अध्यक्ष  और प्रदेश कार्यकारणी का साथ दे तथा जैसी भी स्थिति हो तन मन धन से साथ देना है क्यो अब कोर्ट के आदेश से ही हमारा भविष्य है। क्युकि हम बडे हुये वेतन का क्या करगे जब डियुटीयां नही है जो हमारा जवान लगा भी किसी संस्थानो मै वो एक बंधुवा मजदुर की भांति 12 घन्डे लगा होता है 400 की दैनिक मजदुरी पर और 3 महीने 6 महीने की ड्यूटी उसके बाद क्या करेगा जवान कहने को बर्दिधारी है पर उस वर्दी का सम्मान तभी होगा जब हमें 12 महीने की ड्यूटी मिलेगी आप लोग सहमत हो हमारी बातों से तो सभी का सहयोग चाहिए और जब भी प्रदेश की कार्यकारणी हमे बैठक मैं बुलाये तो कृपा करके एक दूसरे से संपर्क करे और बैठक मैं पहुचने का कष्ट करें।धन्यवाद के साथ अपने विचार व्यक्त करने वाले। संगीता कपरुवांण एवं ताजवार फर्स्वाण चमोली जोशीमठ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

भारत में प्रेस की आजादी अपने सबसे खराब दौर में है

नई दिल्ली। भारत में प्रेस की आजादी अपने सबसे खराब दौर में है। हालत यह है कि अफगानिस्तान जैसे गृहयुद्ध और आतंकवाद के शिकार देश भी प्रेस की आजादी में हमसे आगे हैं। एक बड़ी शर्मनाक बात यह है कि मेनस्ट्रीम मीडिया का बड़ा हिस्सा सरकार का पक्षधर बन गया […]

You May Like