गेट के पिलर के नीचे दबकर मासूम बच्ची की मौत

Pahado Ki Goonj

देहरादून : यमुना कॉलोनी में शनिवार दोपहर को सरकारी आवास के गेट का पिलर टूट कर एक बच्ची के ऊपर गिर गया। इस हादसे में बच्ची की मौके पर ही मौत हो गई। वहीं, मलबे की चपेट में आने से पास में खेल रहा एक और बच्चा घायल हो गया। उसे एक निजी अस्पताल में ले जाया गया, जहां से प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई। कैंट विधायक हरबंस कपूर भी हादसे की सूचना मिलने पर यमुना कॉलोनी पहुंचे और परिवार को ढांढस बंधाया। साथ ही घटना को लापरवाही बताते हुए संबंधित अधिकारी के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराने का भी निर्देश दिया।

मूलरूप से पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले अनिल रावत यहां लोक निर्माण विभाग में कनिष्ठ सहायक के पद पर कार्यरत हैं। वह यहां परिवार के साथ यमुना कॉलोनी के सीटी-16 फ्लैट में रहते हैं। शनिवार दोपहर उनकी बेटी कनिका (7) आवास के बाहर लगे गेट पर अन्य बच्चों के साथ झूल रही थी।

इस दौरान अचानक गेट का पिलर बीच से टूटकर कनिका के ऊपर गिर गया। जिससे कनिका मलबे में दबकर छटपटाने लगी। यह देख आसपास खेल रहे बच्चे चिल्लाने लगे। शोर सुनकर लोग घरों से निकले और कनिका को मलबे के नीचे से निकाला, मगर तब तक उसकी मौत हो चुकी थी। उधर, मलबा गिरने के दौरान आयुष कंडारी (12) पुत्र बृजेंद्र कंडारी के हाथ में भी चोटें आई हैं। हादसे को लेकर कॉलोनी में घंटों अफरातफरी का माहौल रहा।

घर में मचा कोहराम

अनिल रावत की दो संतान हैं। बेटा आदित्य (12) साल का है, जबकि कनिका उससे छोटी थी। कनिका गोविंदगढ़ के चिल्ड्रन एकेडमी में कक्षा दो में पढ़ती थी। कनिका घर के साथ कॉलोनी में रहने वाले लोगों की भी दुलारी थी। उसकी अचानक हुई मौत से आसपास के लोग स्तब्ध हैं। कनिका के पिता और मां का हादसे के बाद से रो-रोकर बुरा हाल है। घर पर ढांढस बंधाने आ रहे लोगों की भी आंखें वहां का मंजर देखकर नम हो जा रही हैं।

जर्जर हैं कॉलोनी के कई आवास

वर्षों पुरानी यमुना कॉलोनी के कई आवास जर्जर हाल में पहुंच गए हैं। कई आवासों के छत के प्लास्टर जहां उखड़कर गिरने लगे हैं, वहीं कॉलोनी के गेट भी समय के साथ अपनी मजबूती खो चुके हैं। शनिवार को हुए हादसे के बाद कॉलोनी में रहने वाले अन्य परिवारों में इसे लेकर गुस्सा साफ नजर आया। उन्होंने कैंट विधायक से इसकी शिकायत भी की। विधायक ने मौके से अधिकारियों से फोन पर बात की और कॉलोनी की जर्जर स्थिति को लेकर नाराजगी भी जताई। उन्होंने यह भी कहा कि इस हादसे के लिए जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज कराया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

देहरादून से जाने वाली तीन ट्रेनें की गईं रि-शेडयूल

देहरादून : दून से जाने वाली तीन ट्रेनें शनिवार को रि-शेडयूल की गईं। सप्ताह में दो दिन हावड़ा जाने वाली उपासना एक्सप्रेस, मुजफ्फरपुर जाने वाली राप्ती गंगा एक्सप्रेस और हावड़ा एक्सप्रेस को देरी से आने के कारण रि-शेडयूल कर दून से रवाना किया गया। स्टेशन अधीक्षक सीताराम सोनकर ने बताया […]

You May Like