ज्योतिष्पीठाधीश्वर एवं द्वारकाशारदापीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य पूज्यपाद स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज का दंड सन्यास दीक्षा दिवस मनाया

Pahado Ki Goonj

 

ज्योतिर्मठ में दण्डदीक्षा महोत्सव मनाया गया

चमोली – पौष शुक्ल एकादशी तदनुसार दिनांक 13 जनवरी 2022

https://youtu.be/p3Of8SCTZrw

उत्तराम्नाय ज्योतिष्पीठाधीश्वर एवं द्वारकाशारदापीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य पूज्यपाद स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज का दंड सन्यास दीक्षा दिवस मनाया गया ।

ईसवीय सन् 1950 में , कोलकाता महानगर में आज ही की तिथि में तत्कालीन ज्योतिष्पीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य स्वामी ब्रह्मानन्द सरस्वती जी महाराज ने पूज्य महाराजश्री को दण्ड सन्यास की दीक्षा दी ।

आज प्रातः काल से ही भगवती अखिलकोटिब्रहाण्ड नायिका राजराजेश्वरी त्रिपुर सुन्दरी श्रीदेवी जी का पूजन सम्पन्न हुआ ।

सायं काल मठ परिसर में चल रही श्रीमद्देवीभागवत माहात्य प्रवचन के अनन्तर सब शिष्यों ने जगद्गुरु जी की महा आरती की और भक्तों को प्रसाद वितरण किया गया ।

देश के अनेक स्थानों पर पूज्यपाद महाराजश्री का सन्यास दिवस मनाया गया ।

मुख्य रूप से उपस्थित स्वामी सदाशिव ब्रह्मेन्द्रानन्द सरस्वती जी महाराज ने महाआरती की ।

महाराज श्री ज्योतिष्पीठाधीश्वर एवं द्वारकाशारदापीठाधीश्वर जगद्गुरु शंकराचार्य पूज्यपाद स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज का दंड सन्यास दीक्षा दिवस एवं मकरसंक्रांति के पावन पर्व पर विश्वकल्याण के लिए शुभकामनाएं भेजी हैं।उन्होंने इस महामारी में सभी प्राणियों के लिए मंगलमय कामनाये प्रेषित की है।

कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित रहे सर्वश्री विष्णुप्रियानन्द ब्रह्मचारी जी, कुशलानन्द बहुगुणा जी, शिवानंद उनियाल जी, धनेश्वरी राणा जी, सरिता उनियाल जी, रमा उनियाल जी, सुरेश घिडियाल, गणेश उनियाल जी, जगदीश उनियाल जी, अमित तिवारी, अण्णा जी रामकुमार तिवारी जी आदि उपस्थित रहे ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Next Post

विधि-विधान के साथ ज्योतिरीश्वर महादेव का पट-ब्रह्मचारी मुकुन्दानन्द बन्द हुआ

सम्पादक जीतमणि पैन्यूली से न्यूज प्रकाशित करने के लिए 7983825336 पर सम्पर्क करें। ज्योतिर्मठ, चमोली पौष शुक्ल द्वादशी तदनुसार दिनांक 14 जनवरी 2022 आज से लगभग 2500वर्ष पूर्व सुदूर केरल के कालडी ग्राम से ज्योतिर्मठ पधारे बालक शंकर ने ज्योतिर्मठ की इस पावन धरा पर स्थित कल्पवृक्ष की छांव में […]