संस्कृत विद्यालय के ऋषिकुमारों ने घूम-धाम से मनाया संस्कृत दिवस

Pahado Ki Goonj

संस्कृत विद्यालय के ऋषिकुमारों ने घूम-धाम से मनाया संस्कृत दिवस

उत्तरकाशी। भाद्र मास की पूर्णिमा के शुभ अवसर पर श्री विश्ववनाथ संस्कृत महाविद्यालय में संस्कृत दिवसव का पर्व वेदमंत्रों के साथ घूम-धाम से मनाया गया ।
संस्कृत वक्ताओं ने कहा कि विश्व की सबसे प्राचीनतम् भाशा संस्कृत सभी भाषाओं की जननी है। देववाणी संस्कृत से पुराण,उपनिषद,आदि ग्रन्थों की रचना की गई है। संस्कृत दिवस के शुभअवसर पर संस्कृत भाषा के उत्थान के लिये महाविद्यालय के आचार्याें एवं ऋषिकुमारों ने जन जागरण शोभायात्रा निकाली। इसके बाद महाविद्यालय के सभागार में संस्कृत भाषण, प्रतियोगिता एवं विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया है। इस दौरान लगभग 62 ऋषि कुमारों को पूरे विधिविधान से योज्ञोपवीत् संस्कार करवाया गया। इस मौके पर महाविद्यालय के प्राचार्य उमेश प्रसाद बहुगुणा, स्वामी राघवानंनद महाराज ,चिरंजीव सेमवाल,डाॅ. द्वारिका प्रसाद नौटियाल, आचार्य अनिल बहुगुणा, वेदाचार्य लवलेश दुवे, सत्येंद्र कुमार राठोर, आकदी मौजूद रहे है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सातवें राज्यपाल बनी बेबी रानी मौर्य

सातवें राज्यपाल बनी बेबी रानी मौर्य रविवार शाम राजभवन में राज्य के सातवें राज्यपाल के रूप में बेबी रानी मौर्य ने शपथ ग्रहण कर ली है। राजभवन में उनका स्वागत मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह और पुलिस महानिदेशक अनिल कुमार रतूड़ी ने किया देहरादून, ! बेबी रानी मौर्य ने उत्तराखंड […]

You May Like