प्राचीन शिव मंदिर में शोभा यात्रा का आयोजन सम्पन

Pahado Ki Goonj

प्राचीन शिव मंदिर में शोभा यात्रा का आयोजन सम्पन

देहरादून :आज बुधवार को प्राचीन शिव मंदिर सिद्ध पीठ धर्मपुर में वार्षिक उत्सव का भव्यआयोजन किया है
।इस पावन अवसर पर भव्य शोभा यात्रा में मदनगोपाल हुरला संरक्षक देवेंद्र अग्रवाल अध्यक्ष भागवत को अपने सिर पर रख कर शोभायात्रा मेंछेत्र को पवित्र किया मंदिर समिति के उप प्रधान आत्मा राम शर्मा भागवत जी को चावर कर रहे थे विभिन्न रथ, बैंड बाजे ,सहनाई के साथ यात्रा प्रस्थान कर जनता को प्रसाद वितरण ठेली से किया गया ।प्रत्येक झांकी के साथ आर यस यस के कार्य करता चल रहे थे ।।शोभा यात्रा धर्मपुर चोक से। 11बजे शिव मंदिर से आराघर के लिये प्रस्थान करते हुए जनता ने शोभायात्रा का बड़े उत्साह से फूल मालाओं से स्वागत करते रहे ,आराघर से सब्जीमंडी ,नेहरू कालोनी फुआरा चौक से यल आई सी भवन होकर धर्मपुर मंदिर प्रागण में सम्पन्न यात्रा सम्पन्न हुई । कार्यक्रम के संयोजक सीता राम भट ने मंदिर प्रांगण में 30 अगस्त से श्रीमद्भागवत ज्ञान यज्ञ आरम्भ होने से पूर्व कथा व्यास आचार्य नत्थिप्रसाद उनियाल का स्वागत किया। श्रीमद भागवत , श्री सुखदेव जी का पूजन कर प्रसाद वितरण किया। 30 अगस्त से 5अगस्त 2018 तक कथा 3से 6 बजे तक व्यास पीठ से उनियाल जी के श्रीमुख से श्रद्धालुओं को श्रवण कराएँगे।6अगस्त को भण्डारे का आयोजन होगा ।अध्यक्ष अग्रवाल एवम समिति ने के सदस्यों व्यपारियो ने बाद चढ़ कर शोभायात्रा में जनता के स्वागत में सहयोग किया। समिति इसी प्रकार जनता से सहयोग का अनुरोध करतीहै शोभायात्रा में समलित होकर शोभायात्रा में सद्भावना पुण्य कर्म केहजारों लोग भागीदार बने। समिति के संयोजक सीता राम भट्ट ने आयोजक महान भाव यातयात व्यबस्था में सहयोग करने वालों महान भाव का आभार व्यक्त किया ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

बड़कोट ब्रेकिंग-पृथक यमुनोत्री जिले की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर बैठे महावीर पँवार की हालत बिगड़ी

बड़कोट ब्रेकिंग-पृथक यमुनोत्री जिले की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर बैठे महावीर पँवार की हालत बिगड़ी।गम्भीर हालत को देखते हुए पुलिस प्रशासन ने अनशन स्थल से उठाकर अस्पताल में कराया भर्ती यमुनोत्री जिले की मांग को पांच महिलाएं भी भूख हड़ताल पर – तहसील परिसर में ग्रामीणों ने ढोल-नगाड़ों […]