सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक , मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत एवं केन्द्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत ने वितरित किए उपकरण

Pahado Ki Goonj
राष्ट्रीय वयोश्री योजना के अन्तर्गत हरिद्वार क्षेत्र के 450 वृद्ध दिव्यांगों को जीवन सहायक उपकरण वितरित
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत एवं केन्द्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत, सांसदडॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने वितरित किए उपकरण।
* पिछले वर्ष प्रारम्भ की गयी, राष्ट्रीय वयोश्री योजना में देश के 260 जनपद चयनित हैं। हरिद्वार सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक की 2019 की तैयारी के रूप में सार्थक पहल देखी जारही है।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत एवं केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने सोमवार को ऋषिकुल मैदान हरिद्वार में भारत सरकार के सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय की राष्ट्रीय वयोश्री योजना के अन्तर्गत हरिद्वार क्षेत्र के 450 वृद्ध दिव्यांगों को जीवन सहायक उपकरण वितरित किये।
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की स्पष्ट सोच है कि सरकार उन लोगों के लिए होती हैं, जो आर्थिक और सामाजिक रुप से कमजोर है। भारत का संविधान दिव्यांग और आर्थिक रुप से कमजोर लोगों को प्राथमिकता देता है। मुख्यमंत्री ने प्रधानमंत्री व केन्द्रीय मंत्री गहलोत का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि केंद्र की हर योजना में उत्तराखण्ड को विशेष रूप से शामिल किये जाने के प्रयास किये जा रहे हैं। पिछले 04 वर्षाें में 50 गुना अधिक शिविरों का आयोजन कर पात्र लोगों को लाभान्वित किया गया है। मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि यह सुनिश्चित किया जाए कि केन्द्र सरकार की योजनाओं का लाभ लाभार्थियों को अधिक से अधिक मिल सके।
पानी बचाने के लिए निम्न प्रकार तैयार करें
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने जिला प्रशासन को दिव्यांगों के कल्याण के लिये केन्द्र एवं राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में जानकारी देने एवं योजना से लाभान्वित करने के निर्देश भी दिये। मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी व्यक्ति अपनी शिकायत या समस्या को टोल फ्री नम्बर 1905 पर दर्ज करा सकते है।
केन्द्रीय सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री थावरचंद गहलोत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में केन्द्र सरकार द्वारा 100 से अधिक विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं बनाई गई है, जिनके माध्यम से लोगों को लाभान्वित करने का कार्य किया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने वृद्ध दिव्यांगों के सशक्तिकरण के लिए कई कदम उठाये है। केन्द्रीय मंत्री गहलोत ने कहा पिछले 04 वर्षाें में देशभर में 11 लाख दिव्यांगों को 600 करोड़ रूपये से अधिक की सामग्री वितरित की जा चुकी है और 07 हजार कैम्प आयोजित किये गये हैं। राष्ट्रीय वयोश्री योजना पिछले वर्ष प्रारम्भ की गयी, जिसमें देश के 260 जनपदों का चयन किया गया है। इस योजना के अन्तर्गत अभी तक 43 हजार वृद्धजनों को उनकी आवश्यकतानुसार उपकरण उपलब्ध कराये गये । 80 प्रतिशत से ज्यादा दिव्यांगों को मोटराईज ट्राई साइकिल उपलब्ध करायी जा रही है। अब तक साढ़े पांच हजार पात्र लोगों को मोटराईज ट्राईसिकल दी जा चुकी है। सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्रालय द्वारा दिव्यांगों को व्हील चेयर, ट्राईसाईकिल, बैसाखी, सुनने की मशीन, चश्मा एवं पढ़ने वाले बच्चों को लेपटाॅप, स्मार्टफोन आदि वितरित किये जा रहे हैं। प्रत्येक पात्र व्यक्ति को 7500 रूपये तक की सामग्री देने का निर्णय लिया गया है। ऐसे बच्चे जो बोल व सुन नहीं सकते है, उनके उपचार के लिये सरकार अनुदान दे रही है। केन्द्रीय मंत्री गहलोत ने कहा कि हरिद्वार में इस तरह का एक शिविर और लगाया जायेगा, जिससे जनपद के पात्र लोगों को अधिक से अधिक लाभान्वित किया जा सके।हरिद्वार क्षेत्र के लिए राष्ट्रीय वयोश्री योजना पिछले वर्ष प्रारम्भ की गयी,
डॉ रमेश पोखरियाल निशंक की 2019 की तैयारी के रूप में सार्थक पहल देखी जारही है।इस अवसर पर सांसद हरिद्वार डाॅ.रमेश पोखरियाल ’निशंक’, कैबीनेट मंत्री मदन कौशिक, यशपाल आर्य, विधायक देशराज कर्णवाल, सुरेश राठौर, यतीश्वरानंद, आदेश चैहान, जिलाधिकारी दीपक रावत, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कृष्ण कुमार वी के सहित अन्य गणमान्य उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

विश्व में पर्यावरण पर पुरुस्कार देने और लेने वालों को ukpkg.com अपने लिखवार गाँव आमंत्रित करते है जहाँ मेरे पिता श्री परमा नंद पैन्यूली ने अपने गावँ की जंगल चौकी दारी व्यबस्था की साथ ही हमारे पूर्वजों ने अपने जंगल के चारों तरफ खेतों की उर्बरा शक्ति बढ़ाने के लिए खेतों के बीच मे बांज का जंगल है

विश्व में पर्यावरण पर पुरुस्कार देने और लेने वालों को u kpkg.com अपने लिखवार गाँव आमंत्रित करते है जहाँ मेरे पिता श्री परमा नंद पैन्यूली ने अपने गावँ की जंगल चौकी दारी व्यबस्था की साथ ही हमारे पूर्वजों ने अपने जंगल के चारों तरफ खेतों की उर्बरा शक्ति बढ़ाने के […]

You May Like