कांग्रेस ने लांच की मोबाइल एप, दर्ज करा सकते हैं अपनी परेशानी

Pahado Ki Goonj

देहरादून। उत्तराखंड कांग्रेस ने एक ऐसी मोबाइल एल लांच की है, जिसमें आप कोरोना लॉकडाउन के दौरान होने वाली परेशानियों को दर्ज कर सकते हैं। एप के जरिए आई जानकारी सरकार को दी जाएगी।
लॉकडाउन की वजह से देश के अन्य हिस्सों में फंसे उत्तराखंड के लोगों की मदद के लिए कांग्रेस ने देवभूमि एप लॉन्च किया है। इसको लेकर देहरादून स्थित कांग्रेस के प्रदेश मुख्यालय में प्रेस कॉन्फ्रेंस की गई। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने राज्य सरकार पर निशाना भी साधा। प्रीतम सिंह ने कहा कि इस संकट की घड़ी में कांग्रेस राजनीति नहीं करती है। प्रधानमंत्री मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के दबाव में गुजरात के लोगों की उत्तराखंड से वापसी की गई थी, जबकि अन्य राज्यों में फंसे हुए लोगों की घर वापसी के लिए कोई व्यवस्था नहीं की जा रही है। संकट काल में राज्य सरकार सोई हुई है। प्रीतम ने कहा कि बाहरी प्रदेश में फंसे हुए लोगों के लिए कांग्रेस ने देवभूमि के नाम से एक एप लॉन्च किया है। इस एप के जरिए प्रवासियों की मदद की जा सकेगी। इसके तहत डाटा एकत्रित करके राज्य सरकार से बाहर फंसे प्रवासी लोगों की घर वापसी की मांग की जाएगी। उनसे कहा जाएगा कि वे अपना नाम, पता और अपनी समस्या लिखकर भेजें। यह जानकारी एकत्र कर सरकार को दी जाएगी। प्रीतम सिंह ने बताया कि सोनिया रसोई और इंदिरा अम्मा कैंटीन के माध्यम से पका हुआ भोजन जरूरतमंदों तक पहुंचाया जा रहा है। जहां आवश्यकता पड़ रही है वहां कच्चा भोजन भी उपलब्ध कराया जा रहा है। कांग्रेस कार्यकर्ता सैनिटाइजर और मास्क भी वितरित कर रहे हैं। बुधवार को देहरादून कांग्रेस भवन में प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह और मनीष खंडूरी ने संयुक्त रूप से देवभूमि मोबाइल एप को लांच किया। इस दौरान कहा गया कि कांग्रेस की योजना इस एप के जरिए महामारी के दौरान लोगों को हो रही परेशानी की जानकारी एकत्र करना है। इस एप को लोगों तक पहुंचाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पृथ्वी दिवस पर विशेष लॉकडाउन बना पर्यावरण के लिए संजीवनी

देहरादून। आज विश्व पृथ्वी दिवस है। हर साल नई थीम के साथ पृथ्वी दिवस मनाया जाता है। पर इस बार एक ओर जहां महामारी का दंश पूरी दुनियां झेल रही है। तो वहीं लाॅक डाउन पर्यावरण के लिए संजीवनी बनकर सामने आया है। नदियां प्रदुषण रहित नजर आ रही है […]