सर्दी से मासूम की मौत, फिर भी विरोध जताने शाहीन बाग लौटी मां

Pahado Ki Goonj

नई दिल्ली। नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में पिछले कई हफ्तों से प्रदर्शन जारी है। इन्हीं में से एक था चार महीने का मासूम मोहम्मद जहान। छोटे-छोटे गालों पर बना तिरंगा। मां नाजिया के साथ आने वाला यह बच्चा जल्द ही शाहीन बाग में हर आंख का तारा बन चुका था।
कभी इसकी गोद में, तो कभी उसकी गोद में। कभी-कभी तो मां को ढूंढना पड़ता था कि उसका लाल कहां पर है। सीएए विरोधी प्रदर्शन के बीच इस मासूम की प्यारी सी मुस्कान सभी के चेहरों पर हंसी ला देती थी। मगर अब यह सिलसिला खत्म हो गया है।
बीते हफ्ते ठंड लगने से चार महीने का मासूम मोहम्मद जहान चल बसा। भीषण सर्दी में भी मां के साथ खुले में प्रदर्शन की वजह से उसे ठंड लग गई। इस वजह से उसे जुकाम और सीने में जकड़न हो गई। बावजूद इसके मां के हौसले डिगे नहीं हैं। अपनी आंखों के तारे को हमेशा के लिए अलविदा कहने के चंद दिनों के बाद ही मां फिर से शाहीन बाग लौट आई है। कहती है, श्यह लड़ाई मेरे बच्चों के भविष्य के लिए है।

झुग्गी में रहते हैं मां-बाप
मोहम्मद जहान के मां-बाप बटला हाउस इलाके में छोटी सी झुग्गी में रहते हैं। घर में दो और बच्चे हैं। एक पांच साल की बेटी और एक साल का बेटा। मूल रूप से यूपी के बरेली के रहने वाले हैं। पिता कढ़ाई का काम करने के अलावा ई-रिक्शा भी चलाता है। मां भी परिवार चलाने के लिए कढ़ाई के काम में हाथ बंटाती है।

टोपी पर लिखा था, आई लव माई इंडिया
आरिफ का कहना है कि हमने सब कुछ खो दिया। उन्होंने मोहम्मद जहान की एक तस्वीर दिखाई, जिसमें उसे एक ऊनी कैप पहनाई गई है जिस पर लिखा है, ई लव माई इंडिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

सीएम त्रिवेन्द्र के बयान पर हरदा का पलटवार, बोले मोदी बड़े मियां तो केजरीवाल छोटे मियां

देहरादून। दिल्ली विधानसभा चुनाव को लेकर दिल्ली के साथ ही उत्तराखण्ड में भी राजनीतिक घमासान जारी है। जिसका सीधा असर अब उत्तराखंड की राजनीति में भी देखने को मिल रहा है। यहां प्रदेश के दो दिग्गज नेता चुनावी मसले पर एक दूसरे को घेरने में लगे हैं। प्रदेश के मुख्यमंत्री […]

You May Like