दहेज हत्या में पति, सास और ससुर को मिली सजा

Pahado Ki Goonj

देहरादून: दहेज हत्या व उत्पीड़न के मामले में एडीजे तृतीय की अदालत ने आरोपी पति व सास, ससुर को दोषी पाते हुए पति को 14 साल व सास-ससुर को सात-सात साल कैद की सजा सुनाई है। इसके साथ ही तीनों पर दस-दस हजार रुपये का जुर्माना भी लगाया गया है।

मामले में अभियोजन पक्ष की ओर से अधिवक्ता जेके जोशी ने अदालत को बताया कि शिकायतकर्ता महेन्द्र सिंह यादव ने अपनी पुत्री के पति सचिन, सास निर्मला व ससुर भगवत प्रसाद के खिलाफ 11 जून 2010 को पुलिस से शिकायत की थी।

बताया था कि बेटी सुषमा की शादी पांच अक्टूबर 2009 को सचिन के साथ हुई थी। शादी के बाद से ही आरोपी उसे दहेज के लिए प्रताडि़त कर रहे थे। दहेज की मांग पूरी न होने पर आरोपी अक्सर सुषमा के साथ मारपीट करते थे। इस बात की शिकायत कई बार सुषमा ने परिजनों से भी की थी।

एक जून 2010 को सुषमा ने अपनी मां को फोन पर कहा कि उसका पति सचिन व सास-ससुर उसके साथ मारपीट कर रहे हैं। जिसके बाद मां बेटी से मिलने पहुंची तो उसे बताया गया कि सुषमा ने आत्महत्या कर ली है। इस दौरान सुषमा का पति सचिन, सास निर्मला व ससुर भगवत प्रसाद घर से फरार थे। अभियोजन पक्ष की ओर से प्रस्तुत गवाह व साक्ष्यों के आधार पर आरोपियों को अदालत ने दोषी करार देते हुए सजा सुनाई।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

अब एम-आधार दिखाकर हवाई अड्डों में कर सकेंगे प्रवेश

मोबाइल आधार (एम-आधार) का इस्तेमाल अब हवाई अड्डों में प्रवेश करने के लिए पहचान पत्र के रूप में किया जा सकेगा। इसके साथ ही अभिभावकों के साथ आए नाबालिग बच्चों को पहचान पत्र दिखाने की जरूरत नहीं होगी। नागरिक उड्डयन सुरक्षा ब्यूरो (बीसीएएस) ने परिपत्र जारी कर इस बात की […]

You May Like