विश्व स्वास्थ्य दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

Pahado Ki Goonj

सर्वे भवन्तु सुखिनः,सर्वे सन्तु निरामयः
सर्वे भद्राणि पश्चयन्तु माँ कश्चिद दुःख भाग भवेत।
देहरादून (चंद्रशेखर पैन्यूली)-विश्व स्वास्थ्य दिवस की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं।कहा ही जाता है कि मनुष्य की सबसे बड़ी पूंजी उसका स्वस्थ शरीर होता है,स्वस्थ तन में ही स्वस्थ मन होता है,यानि जान है तो जहाँन है,इसी बात को समझते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 1948 में पहली बार विश्व के अधिकतम देशों ने स्वास्थ्य के प्रति वैश्विक आधार पर एक दूसरे देशों में जागरूकता लाने और विभिन्न बीमारियों की रोकथाम हेतु स्वास्थ्य दिवस मनाया गया,जिसे 7 अप्रैल 1950 से लगातार मनाया जा रहा है,आज 193 देश विश्व स्वास्थ्य संगठन के सदस्य है,और दो देश अस्थाई सदस्य । आज की भाग दौड़ भरी जिंदगी और अनियमित जीवन शैली ,असंतुलित,असमय खान पान ने कई नई बीमारियों को जन्म दिया है आज कई नई बीमारियों से लोग परेशान है जिनमे कई बीमारियां जानलेवा भी है,इन्हीं सब बीमारियों के सम्बन्ध में जागरूकता लाने के उद्देश्य से ही आज 7 अप्रैल को विश्व स्वास्थ्य दिवस मनाया जाता है,इस वर्ष की थीम है एवरीवन ,एवरीवैर यानि हर जगह,हर किसी को स्वास्थ्य सुविधा मिले,बिना किसी वित्तीय कठिनाई के सभी को हेल्थ केयर मिले,देश की बीजेपी सरकार की अटल आयुष्मान योजना का भी कुछ यही ध्येय है कि कोई भी व्यक्ति पैसों के आभाव में इलाज से वंचित न रहे,मोदी सरकार ने 5 लाख तक के इलाज हेतु स्वास्थ्य बीमा,गोल्डन कार्ड बनाये हैं, जो गरीबों के लिए एक महत्वपूर्ण कदम हैं,इस वर्ष विश्व स्वास्थ्य संगठन की थीम भी सबके लिए हर जगह हेल्थ केयर है, यानि कोई भी बिना इलाज के न रहे,आप सभी के स्वस्थ शरीर और सुखद जीवन की कामना हम भगवान से करते हैं। पत्र एवं समाचार पोर्टल परिवार की ओर से आप सभी सुधी पाठकों ,शुभचिंतको सपरिवार आपके स्वस्थ निरोगी काया की कामना के साथ पुनः विश्व स्वास्थ्य दिवस की मंगलमय शुभकामनाये। विश्व के जन मानस
स्वस्थ रहें, सुखी रहें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

मोदी सरकर में देश बहुत बर्बाद होने से लोकतंत्र खात्मे की कगार पर है

नई दिल्ली। याद कीजिए कि संप्रग सरकार के समय भ्रष्टाचार, लोकपाल, निर्भया रेपकांड के बाद सिविल सोसायटी के बड़े आंदोलन हुए। अनेक बड़े-बड़े प्रदर्शन, आंदोलन, रैलियां हुईं जिन्हें मीडिया ने हाइप दिया। विपक्ष और स्वतंत्र लोगों ने समर्थन दिया। लेकिन मोदी सरकार के कार्यकाल में देश बहुत बर्बाद हुआ है। […]

You May Like