पिरूल से बिजली व बायो उत्पादन को लेकर उत्तरकाशी ने ली समीक्षा बैठक

Pahado Ki Goonj

उत्तरकाशी (मदन पैन्यूली)चीड़ पिरूल आधारित विद्युत उत्पादन एवं बायो ऑयल इकाईयां स्थापित करने की कवायद जनपद में तेज हो गई हैं।

मंगलवार को जिला सभागार में जिलाधिकारी आशीष चौहान ने चीड़ पिरूल से बिजली उत्पादन व बायोऑयल बनाने को लेकर उरेड़ा विभाग को प्रस्तुत आवेदनों की समीक्षा की। जिलाधिकारी ने कहा कि उरेड़ा विभाग को प्रथम चरण में 5 अभ्यर्थियों ने प्रोजेक्ट लगाने के लिए आवेदन किया था जिसमें सभी अभ्यर्थियों के आवेदन स्वीकृत हो चुके हैं उन्होंने शीघ्र ही द्वितीय चरण में सभी आवेदनों को ऑनलाईन करने के निर्देश उरेड़ा विभाग को दिए।

जिलाधिकारी ने कहा कि जनपद में ज्यादातर चीड़ के वृक्ष हैं इससे निकलने वाले पिरूल में वनाग्नि सीजन में आग लगने की ज्यादा सम्भावनाएं रहती है तथा वनसम्पदाओं का नुकसान होता है। इसलिए पर्यावरण व वन सम्पदाओ को बचाने के लिए यह प्रोजेक्ट बेहद उपयोगी साबित होगा। जहां बिजली व बायो ऑयल बनाने का कार्य प्रारम्भ होगा वहीं रोजगार के नए अवसर भी पैदा होगें। उन्होंने कहा कि पिरूल एकत्र करने हेतु एक मॉडल विकसित किया जाए ताकि ग्रामीण मजदूरों की आर्थिकी मजबूत करने व रोजगार से जोड़ने हेतु प्रभावी कदम उठायें जा सके। उन्होंने कहा कि मॉडल विकसित होने पर ग्रामीण मजदूरों को जिला योजना एवं मनरेगा से भी आच्छादित किया जा सकता है इसलिए प्रभावी ढंग से मॉडल को विकसित करना सुनिश्चित करें।

बैठक में मुख्य विकास अधिकारी प्रशान्त आर्य, ईई विद्युत गौरव सकलानी, परियोजना अधिकारी वंदना,रेंजर रविन्द्र पुंडीर सहित लाभार्थी मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

पुरोला सिंचाई विभाग के द्वारा बड़ी निविदाओं के विरोध में ठेकेदार संगठन ने किया जुलूस प्रर्दशन

  उत्तरकाशी पुरोला पुरोला ब्लॉक के कमल नदी पर सिचांई विभाग के माध्यम से कराये जा रहे करोड़ों के बाढ़ सुरक्षा कार्यों के निर्माण को लगाई गई बड़ी निविदाओं के विरोध में मोरी, पुरोला व नौगांव के स्थानीय ठेकेदरों ने रोष व्यक्त किया है। ठेकेदारों ने […]

You May Like