मुख्यमंत्री उत्तराखंड सरकार से कोरोना की आयुर्वेद दावा बनाने के लिए प्रार्थना पत्र

Pahado Ki Goonj

सेवा में
माननीय मुख्यमंत्री जी। dt.13.04.2021
उत्तराखंड सरकार, देहरादून

बिषय: pcf रानीखेत से कोरोना दवाई बनाने हेतु

महोदय,

देश के इन महान आयुर्वेद के ज्ञान का रिसर्च कर देहरादून में अदभुत अलौकिक, अमृत तुल्य कोरोना उपचार की सटीक दवा बनाई है। उत्तराखंड सरकार इसकी महत्ता समझेगी?
वही बड़ी खबर आ रही है : किडनी तथा लिवर को खराब करती है रेमेडिसविर वैक्सीन

गुजरात सरकर ने इसके खतरे को लेकर किया अलर्ट किया है
जबकि
वैज्ञानिक विजय कुमार ने कोरोना के मरीज श्री प्रसाद थपलियाल संयोजक गैरसैंण राजधानी

निर्माण अभियान देहरादून,श्री राजेश यादव
रिलाइंस वेस्ट यूपी , देहरादून

श्रीमती चेतना राणा देहरादून

श्री कृष्ण कुमार दुबई।

महोदय, कोरोनो इलाज में प्रभावी माने जाने वाली एंटी वायरल इंजेक्शन रेमडेसिविर को लेकर कइ सवाल खड़े हो गए हैं। इसके निर्यात पर रोक लगाने की बीच दावा किया जा रहा है कि इस इंजेक्शन में साइक्लोडेक्ट्रीन है जो किडनी तथा लिवर को खराब कर सकता है। दरसअल गुजरात उच्च न्यायालय ने राज्य में कोरोना वायरस की स्थिति पर स्वत:संज्ञान लेते हुए जनहित याचिका की कार्रवाही शुरू की, जिसके जवाब में सरकार ने यह दावा किया।

गुजरात उच्च न्यायालय ने उठाया सवाल
कोर्ट ने कहा कि मीडिया में महामारी को लेकर आई खबरों में यह संकेत दिया गया था कि प्रदेश ‘स्वास्थ्य आपातकाल जैसी स्थिति’ की तरफ बढ़ रहा है। इसके साथ ही कोर्ट ने सवाल किया कि कोरोना संक्रमण के इलाज के लिए प्रयोग होने वाले रेमेडिसविर इंजेक्‍शन इतनी अधिक कीमत पर क्‍यों बेचे जा रहे हैं। याद हो कि कोविड-19 के मामलों में वृद्धि के कारण रेमडेसिविर की मांग बढ़ने के मद्देनजर केन्द्र ने रविवार को कहा कि वायरल रोधी इंजेक्शन और इसकी सक्रिय दवा सामग्री (एपीआई) के निर्यात पर स्थिति में सुधार होने तक रोक लगा दी गई है।

रेमेडिसविर की कालाबाजारी रोकेने के लिए निर्देश जारी
केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा की दवा की आसानी से उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए रेमडेसिविर के सभी घरेलू निर्माताओं को अपने विक्रेताओं और वितरकों की जानकारी अपनी वेबसाइट पर प्रदर्शित करने की सलाह दी गई है। औषधि निरीक्षकों और अन्य अधिकारियों को भंडार को सत्यापित करने, कदाचारों की जांच करने और इसकी जमाखोरी और कालाबाजारी को रोकने के लिए अन्य प्रभावी कदम .उठाने के निर्देश दिये गये है। राज्यों के स्वास्थ्य सचिव संबंधित राज्यों और केन्द्र शासित प्रदेशों के औषधि निरीक्षकों के साथ इसकी समीक्षा करेंगे।

रेमडेसिविर की बढ़ रही है मांग
मंत्रालय ने कहा कि भारत में कोविड के मामले तेजी से बढ़ रहे है। इससे कोविड मरीजों के इलाज में इस्तेमाल होने वाले रेमडेसिविर इंजेक्शन की मांग तेजी से बढ़ी है।आने वाले दिनों में इसकी मांग में और बढ़ोतरी हो सकती है। मंत्रालय ने कहा कि सात भारतीय कंपनियां मेसर्स गिलीड साइंसेज, अमेरिका, के साथ स्वैच्छिक लाइसेंसिंग समझौते के तहत इंजेक्शन का उत्पादन कर रही हैं। उनके पास प्रति माह लगभग 38.80 लाख इकाइयों को बनाने की क्षमता है। भारत सरकार ने स्थिति में सुधार होने तक रेमडेसिविर और इसकी सक्रिय दवा सामग्री (एपीआई) के निर्यात पर स्थिति में सुधार होने तक रोक लगा दी गई है।”

महोदय, देश के इन ख्याति प्राप्त आयुर्वेद के वैज्ञानिक को आप समय देगे, जिसका लाभ उत्तराखंड ही नही पूरे देश को मिलेगा और उत्तराखंड की आय में बृद्धि होगी।
सादर

जीतमणि पैन्यूली सम्पादक www.ukpkg.com
प्रचार कार्यालय एजेण्डा बिजनेस सेन्टर 11/10 राजपुर रोड़ देहरादून -1
मो09456334283

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

15 मई को श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री धाम के कपाट।।.

15 मई को अक्षय तृतीया के शुभ अवसर श्रद्धालुओं के लिए खोले जाएंगे विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री धाम के कपाट।।. उत्तरकाशी: ( मदनपैन्यूली). […]

You May Like