श्री मद्महेश्वर मेले के दूसरे दिन 24 नवंबर रात्रि रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ आज समापन होगा

Pahado Ki Goonj

श्री मद्महेश्वर मेले के दूसरे दिन 24 नवंबर रात्रि रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम के साथ आज समापन होगा ।

अब तक के कार्यक्रम व मेले की जनकारी पढें।

24×7 देखें न0 1 ukpkg.com समाचार पोर्टल शेयर करें कमेन्ट किजयेगा

24 नवंबर सांस्कृतिक संध्या में श्री बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के उपाध्यक्ष अशोक खत्री बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुआ आज त्रिदिवसीय मद्महेश्वर मेले का समारोह पूर्वक समापन होगा। जिसमें मेला समिति विभिन्न सांस्कृतिक दलों, खेलकूद प्रतियोगिताओं, विभिन्न कार्यक्रमों तथा उत्कृष्ट स्टालों एवं मेले में सहयोग करने वाली संस्थाओं को पुरस्कृत करेंगी। मेला समिति द्वारा मुख्य अतिथि मुख्यमंत्री के औद्योगिक सलाहकार डा.के.एस.रावत तथा विशिष्ट अतिथि पूर्व विधायक आशा नौटियाल, रूद्रप्रयाग नगरपालिका अध्यक्ष गीता झिंक्वाण, अरूणा देवी बेंजवाल अध्यक्ष नगर पंचायत अगस्त्यमुनि आदि को आमंत्रित किया गया है।
कल शाम श्री मद्महेश्वर मेले के दूसरे दिन रंगारंग सांस्कृतिक संध्या प्रसिद्ध गायकार अमित सागर एवं हेमा नेगी करासी के नाम रही।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि श्री बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के उपाध्यक्ष अशोक खत्री शामिल हुए।
प्रमुख जखोली प्रदीप थपलियाल, प्रमुख अगस्त्यमुनि विजया देवी, केदारनाथ नगर पंचायत सलाहकार समिति अध्यक्ष देवप्रकाश सेमवाल, मंदिर समिति कार्याधिकारी एन.पी.जमलोकी, व्यापार समिति अध्यक्ष आनंद सिंह रावत कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि आमंत्रित थे।
सांस्कृतिक कार्यक्रम के पश्चात मेला समिति अध्यक्ष एवं नगर पंचायत अध्यक्ष विजय राणा सचिव प्रकाश रावत ने सबका आभार जताया। आज मेले का समापन समारोह है।
मुख्य मंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत एवं औद्योगिक सलाहकार डा. के.एस.पंवार तथा केदारनाथ रावल, मंदिर समिति उपाध्यक्ष, मुख्य कार्याधिकारी ने बाबा मद्महेश्वर जी की डोली की अगवानी, एवं स्वागत किया।

दर्शन के पश्चात मेला समिति के कार्यक्रम में शामिल हुए मुख्यमंत्री।

उखीमठ: 24 नवंबर। द्वितीय केदार मद्महेश्वर जी की डोली गिरिया से आज दिन में शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ पहुंची। जहां डोली का भब्य रूप से स्वागत हुआ। हजारों श्रद्धालुओं ने श्री मद्महेश्वर जी की डोली के दर्शन किये।
इस अवसर पर शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर को फूलों से सजाया गया था।
डोली के शीतकालीन गद्दीस्थल पहुंचने पर मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत, औद्योगिक सलाहकार डा.के.एस.पंवार, मंदिर समिति के उपाध्यक्ष अशोक खत्री, रावल भीमाशंकर लिंग, मुख्य कार्याधिकारी बी.डी सिंह, कार्याधिकारी एन.पी.जमलोकी ने डोली की अगवानी एवं स्वागत किया।
इससे पहले मुख्य मंत्री ने श्री ओंकारेश्वर मंदिर में पूजा-अर्चना कर लोक कल्याण की कामना की। तत्पश्चात मुख्यमंत्री रावल निवास गये जहां रावल एवं मंदिर समिति उपाध्यक्ष तथा मुख्य कार्याधिकारी ने ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में जीर्ण-शीर्ण कोठा भवन निर्माण के संबंध में वार्ता की तथा प्रोजेक्ट प्रारुप को मुख्यमंत्री के सम्मुख रखा।
श्री मद्महेश्वर जी की डोली के गिरिया से मंगल चौंरी पहुंची जहां केदारनाथ के रावल, सहित पुजारी केदार लिंग, शिव शंकर लिंग, टी.गंगाधर लिंग, डा.राकेश भट्ट, भाजपा युवा मोर्चा के अनुग्रह मिश्र, वेदपाठी आशाराम नौटियाल,आचार्य मैठाणी, मीडिया प्रभारी डा.हरीश गौड़ आदि डोली के स्वागत हेतु मंगोल चौरी पहुंचे। वहां डोली की पूजा-अर्चना एवं अर्ध्य दिया गया उसके बाद ब्राह्मणखोली सहित संपूर्ण मार्ग पर डोली के दर्शन को श्रद्धालु पहुंचे एवं डोली का फूल मालाओं से स्वागत किया।
मंदिर समिति पूर्व सदस्य शिव सिंह रावत,पुजारी बागेश लिंग, मंदिर सुपरवाइजर यदुवीर पुष्पवान, वेदपाठी यशोधर मैठाणी, देवानंद गैरोला आदि डोली के साथ पहुंचे।
श्री बद्रीनाथ-केदारनाथ केदारनाथ मंदिर समिति उपाध्यक्ष अशोक खत्री ने श्री मद्महेश्वर जी की डोली के उखीमठ पहुंचने के दौरान प्रदेश के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत बाबा मद्महेश्वर जी के दर्शन हेतु उखीमठ पहुंचने पर आभार जताया। स्वागत कर बाबा मद्महेश्वर जी का प्रसाद भेंट किया।
इसके पश्चात मुख्यमंत्री इंटर कालेज मैदान में आयोजित मद्महेश्वर मेला समिति के कार्यक्रम भी शामिल हुए। जहां उन्होंने धार्मिक मेलों को उत्तराखंड की पहचान बताया। तथा करोड़ों की योजनाओं का शिलान्यास एवं लोकार्पण किया। युवाओं को स्वरोजगार से जुड़ने का आवाह्न किया।
इस अवसर पर मुख्य मंत्री के औद्योगिक सलाहकार सहित, मंदिर समिति उपाध्यक्ष, विधायक मनोज रावत, पूर्व विधायक आशा नौटियाल, जिला पंचायत अध्यक्ष अमर देई शाह, जिलाधिकारी मंगलेश घिल्डियाल, मेला समिति अध्यक्ष विजय राणा, दिनेश तिवारी आदि मौजूद रहे।
श्री मद्महेश्वर जी की डोली के शीतकालीन गद्दी स्थल पहुंचने के अवसर पर रावल भीमाशंकर लिंग, मंदिर समिति उपाध्यक्ष अशोक खत्री,मुख्य कार्याधिकारी बी.डी सिंह, कार्याधिकारी एन.पी.जमलोकी, सहायक अभियंता गिरीश देवली, फार्मेसी प्रभारी डा.हर्ष वर्धन बेंजवाल, लेखाकार आरसी तिवारी, वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी राजकुमार नौटियाल, वेदपाठी स्वयंबर सेमवाल, प्रबंधक अरविंद शुक्ला, पारेश्वर त्रिवेदी, देवी प्रसाद तिवारी, अनिल भट्ट, अमित राणा, पुष्कर रावत, प्रेम सिंह रावत, प्रमोद कैसिव,विदेश शैव, ललित त्रिवेदी,सुदीप रावत, विशेश्वर शैव आदि मौजूद रहे। आज समापन समारोह में सभी लोगों का समिति धन्यवाद देने के साथ साथ रावल श्री भीमाशंकर लिंगम आशीर्वाद देंगें।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

कोटद्वार में अतिक्रमण, नोटिस तक सिमटा नगर निगम

कोटद्वार झंंडा चौक में टीन शेडो से किये हुए अतिक्रमण से क्यों आंखे मूंदे बैठा है नगर निगम आखिर कौन है नगर निगम में बैठा विभीषण, जिसकी शह पर चल रहा ये खेल, जब अतिक्रमण की बात चलती हैं तो कोटद्वार यहाँ सबसे ऊपर है और हो भी क्यों न, रोज अखबारों की […]

You May Like