लिखवार गावँ से कोरोना वायरस महामारी के बचाव में संपूर्ण मानव जाति की स्वास्थ्य रक्षा हेतु हमारे साथ 6251111000 प्रार्थना की कड़ी बनाने के लिए जुड़े

लिखवार गावँ( टिहरी गढ़वाल) जीतमणि पैन्यूली ,पहाड़ों की गूंज का कोरोना वायरस महामारी से बचाव के लिए इस समय में संपूर्ण मानव जाति की स्वास्थ्य रक्षा हेतु हम 6251111000 प्रार्थना की एक कड़ी बना रहे हैं.. आप भी इसको एक बार पढ़िए और अन्य 10 लोगों को भेजिएगा 🙏 इस लिंक को रोका रोकने का काम मत  कीजिएगा एवं मानवीय दृष्टि कोण रखते हुए अवश्य दूसरे को भेजदिजयेगा 🌹ताकि कोरेना से विश्व को बचाने में आप सहायक बन कर रहे।

*ऊॅ नमो भगवते महासुदर्शन वासुदेवाय धन्वन्तराय अमृतकलश हस्ताय सकल भयविनाशाय सर्वरोग निवारणाय त्रिलोकपतये त्रिलोकनिधये ऊॅ श्री महाविष्णुस्वरूप श्री धन्वन्तरि स्वरूप ऊॅ श्री श्री औषधचक्रनारायणाय नम:

आगे पढ़ें

हमेशा,सुबह उठ कर 1.5 गुनगुना पानी पीकर दोंनो हथेलियों की उंगलियों को एक उल्टा,दूसरा उल्टा जोड़ कर जोरसे हथेलियों को खींचकर सांस गुनगुना करके बाहर फेंके । इससे आपका बलगम बाहर निकल कर आएगा।

आगे पढ़ें

*प्रधानमंत्री जी को श्री वी.के.बंसल राष्ट्रीय महामंत्री*
*फेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया व्यापार मंडल ने पत्र लिख कर की वित्तीय वर्ष को 31 मार्च से 30 जून बढ़ाने की मांगकी इस संदेश को आपतक पहुचाने के लिए*CA राजेश्वर पैन्यूली* *राष्ट्रिय प्रवक्ता* फेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया व्यापार मंडल.  अपील की है।

*भारत के सभी व्यापार मंडल एवं ट्रेड एसोसिएशन के राष्ट्रीय परिसंघ , फेडरेशन ऑफ़ आल इंडिया व्यापार मंडल* द्वारा भारत सरकार से चालू वित्त वर्ष तो 31 मार्च के स्थान पर 30 जून 2020 तक बढ़ने की मांग की गयी है । प्रधान मंत्री जी को भेजे अपने पत्र में फेडरेशन ने लिखा है किं कोरोना वायरस ने दुनिया को प्रभावित किया है और लाखों मानव इस महामारी से प्रभावित होने की संभावना है। व्यापार और वाणिज्यिक गतिविधियाँ धरातल पर आ चुकी है हैं। हालाँकि इस आपदा में भारत का सम्पूर्ण व्यापार और उद्योग जगत सरकार के साथ खड़ा है और इस वैश्विक संकट से निपटने के लिए अपने मदद के हाथ बढ़ाने को तैयार है । हालाँकि कुछ ऐसे मुद्दे भी है , जिन पर सरकार को तत्काल ध्यान देने की आवश्यकता है

*a)* .चालू वित्तीय वर्ष अगले एवं वार्षिक लेखा बंदी मात्र 10 दिन दूर है। व्यवसाय 31 मार्च 2020 को अपने वार्षिक खातों को बंद करने में असमर्थ हैं क्योंकि कोरोना वायरस के डर से अधिकांश वाणिज्यिक संगठन काम करने में सक्षम नहीं हैं। इसलिए यह अनुरोध किया जाता है कि असाधारण परिस्थितियों को देखते हुए वित्त वर्ष 2019-20 को 31 मार्च 2020 से बढ़ाकर 30 जून 2020 तक किया जाए । आशा है कि उस समय तक व्यवसाय मौजूदा आपात स्थितियों से निपटने में सक्षम होंगे।

*b*).एक बार वित्तीय वर्ष को 30 जून तक बढ़ा दिया जाता है, फलस्वरूप प्रत्यक्ष कर, अप्रत्यक्ष कर, एमसीए, श्रम आदि जैसे विभिन्न कानूनों के तहत सभी वार्षिक अनुपालन एवं वार्षिक रिटर्न दाखिल करना कृपया इस अवधि तक बढ़ाया जाए ।
*c)* . उक्त अवधि के दौरान गैर-अनुपालन पर जुर्माना और ब्याज छूट दी जाए ।
*d).* इस अवधि के दौरान पीएफ, ईएसआई आदि जैसे वैधानिक श्रम बकाया को माफ किया जा जाए क्योंकि व्यापारियों द्वारा अपने कर्मचारियों को अवकाश के समय का भी भुगतान किया जा रहा है।
*e* ).चूंकि कोरोना वायरस के चलते अधिकांश एनआरआई (NRI)वापस आ गए हैं, इसलिए एनआरआई (NRI) बने रहने के लिए 182 दिनों की शर्त को 90 दिनों तक घटाया जाए ।
*f).* कोरोना वायरस के चलते , टैक्स प्रशासन एंड बैंक द्वारा ट्रेडर्स और एंटरप्रेन्योर्स के प्रति उदार दृष्टिकोण रखना चाहिए ।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *