पंचमुखी डोली आज शीतकालीन गद्दी स्थल औंकारेश्वर मंदिर पहुंचने के साथ श्री केदारनाथ भगवान की शीतकालीन पूजायें शुरू

Pahado Ki Goonj

पंचमुखी डोली आज शीतकालीन गद्दी स्थल

औंकारेश्वर मंदिर पहुंची शीतकालीन पूजायें शुरू
केदारनाथ: इस यात्रा वर्ष श्री केदारनाथ धाम के कपाट 9 नवंबर प्रात: 8 बजकर 30 मिनट पर शीतकाल के लिए विधिविधानपूर्वक बंद हुये।
श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी बी.डी.सिंह ने बताया कि इस यात्रा वर्ष 2018 में श्री केदारनाथ धाम के कपाट बंद होने तक 732241 रिकार्ड तीर्थयात्रियों ने बाबा केदारनाथ के दर्शन किये।
समिति के कार्याधिकारी एन.पी.जमलोकी ने बताया कि पश्चात 9 नवंबर को कपाट बंद होने के पश्चात सेना के 10 जेकलाई रेजीमेंट के बेंड की धुनों के साथ समारोह पूर्वक भगवान केदारनाथ की पंचमुखी विग्रह डोली रामपुर रात्रि विश्राम को पहुंची कल 10 नवंबर को डोली ने विश्वनाथ मंदिर गुप्तकाशी रात्रि विश्राम किया आज 11 नवंबर को 10 बजे प्रात: डोली शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ हेतु प्रस्थान हुई। दिन में डोली औंकारेश्वर मंदिर पहुंची इसी के साथ ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ में भगवान केदारनाथ की शीतकालीन पूजायें शुरू हो गयी।
गुप्तकाशी से चलते हुए डोली का संपूर्ण गुप्तकाशी बाजार, विद्यापीठ, उखीमठ मंदिर मार्ग पर भब्य स्वागत हुआ। भगवान श्री केदारनाथ के जयकारों से माहौल भक्तिमय हो गया।बचन सिंह नेगी एवं विद्यापीठ में प्रधानाचार्य डा.हर्षवर्धन बेंजवाल, राकेश जमलोकी,वासुदेव सेमवाल आदि द्वारा डोली की आगवानी की गयी,श्रद्धालुओं ने उत्सव डोली पर फूल वर्षा की। डोली के औंकारेश्वर मंदिर उखीमठ पहुंचने पर पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष चंडी प्रसाद भट्ट,पूर्व नगर पालिका अध्यक्ष रीता पुष्पवान, एल.पी. भट्ट,सद्स्य संगीता देवी, आचार्य हर्ष जमलोकी सहित श्रद्धालुओ ने आगवानी की।
डोली के साथ श्री बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के निवर्तमान सदस्य शिव सिंह रावत, कार्याधिकारी एन.पी.जमलोकी,मंदिर समिति सहायक अभियंता गिरीश देवली, प्रशासनिक अधिकारी राजकुमार नौटियाल, बचन सिंह रावत,विदेश शैव,देवानंद गैरोला आदि मौजूद रहे। अ.अभियंता आशुतोष शुक्ला लेखाकार आर.सी.तिवारी, मनोज शुक्ला, पुजारी टी.गंगा धर लिंग,मंदिर सुपरवाइजर/प्र.अ. यदुवीर पुष्पवान प्रबंधक अरविंद शुक्ला, डोली प्रभारी प्रदीप सेमवाल,लोकेन्द्र रिवाड़ी,प्र.धर्माधिकारी वेदपाठी ओंकार शुक्ला, यशोधर मैठाणी,विश्वमोहन जमलोकी, स्वयंबर सेमवाल,पुष्कर रावत,पारेश्वर त्रिवेदी,ललित त्रिवेदी, प्रमोद केसिव,मृत्युंजय,कैलाश जमलोकी अखिलेश शुक्ला, संजय तिवारी उमेश शुक्ला,राकेश डिमरी भूपेन्द्र धर्म्वाण विधान कर्मकार सहित बड़ी संख्या में श्रद्धालु मौजूद रहे। तत्पश्चात समारोह पूर्वक पंच मुखी उत्सव डोली शीतकालीन गद्दी स्थल ओंकारेश्वर मंदिर ऊखीमठ में विराजमान हो गयी यहीं भगवान केदारनाथ की छःमाह शीतकालीन पूजायें शुरू हो गयी हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Next Post

उत्तराखंड का सही मायने में विकास के लिए पहाड़ी प्रदेश की राजधानी जनभावनाओं के अनुकुल गैरसैंण में होने से ही सम्भव हो पाएगा : कमलेश खंतवाल

उत्तराखंड का सही मायने में विकास के लिए पहाड़ी प्रदेश की राजधानी जनभावनाओं के अनुकुल गैरसैंण में होने से ही सम्भव हो पाएगा : कमलेश खंतवाल देहरादून (गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान, संघर्ष स्थल (हिन्दी भवन के समक्ष) 11 नवम्बर 2018| आज *गैरसैंण राजधानी निर्माण अभियान* ने राज्य स्थापना दिवस में […]

You May Like