एशियाई ब्लाइंड फुटबॉल चैंपियनशिप में उत्तराखंड के खिलाड़ियों ने दिखाई अपना हुनर

देहरादून। 28 सितम्बर से 7 अक्टूबर 2019 तक थाईलैंड के शहर पटाया में सम्पन्न हुई इब्सा एशियाई ब्लाइंड फुटबॉल में भारतीय टीम ने भी हिस्सा लिया। एशियाई ब्लाइंड फुटबॉल चैंपियनशिप का यह पाँचवाँ संस्करण था, जिसमें भारत दूसरी बार प्रतिभाग कर रहा था। इससे पूर्व 2015 में जापान के टोक्यो शहर में भी भारत ने पहली बार प्रतिभाग किया था। जिसमें उसने कोई भी मैच नहीं जीता था और अंतिम स्थान पर रहा था। कप्तान पंकज राणा और फलहान ही दो ऐसे खिलाड़ी थे जिन्होंने 2015 में भी प्रतिभाग किया था। 12 सदस्यीय टीम में 7 खिलाड़ी, 2 गोलकीपर और तीन स्टाफ थे। इस प्रतियोगिता में 8 देशों ने भाग लिया और चीन, ईरान व जापान ने पैरालिम्पिक्स 2020 टोक्यो के लिए क्वालीफाई कर लिया । भारत इसमें कोरिया के साथ बराबरी का मैच खेलकर तथा मलेशिया को हरा कर 5 वे स्थान पर रहा।
टीम में उत्तराखंड के 3 खिलाड़ी और गोल गाइड के रूप में टीम में शामिल थे। उनका प्रदर्शन काफी अच्छा रहा। पंकज राणा टीम के कप्तान थे। सोवेन्द्र ने जिस प्रकार उम्दा खेल का प्रदर्शन किया सभी उसके खेल के कायल भी हो गए। अंतिम मैच में शिवम सिंह नेगी ने मलेशिया के डिफेन्स को तोड़कर दो गोल मारे। शिवम एशियाई चैंपियनशिप में गोल मारने वाला पहला खिलाड़ी बना। साथ ही गोल गाइड के रोल में नरेश सिंह नयाल ने अपने 12 गोल पूरे कर लिए तथा एशियाई चैंपियनशिप के 2 गोल इसमें शामिल है। संस्थान के तीनों खिलाड़ियों ने पूरे मैच खेले। अपने प्रदेश और देश के लिए गौरव अर्जित किया है।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *