कांग्रेस उत्तराखंड में राष्ट्रपति शासन के पक्ष में नहीं 

देहरादून। उत्तराखंड कांग्रेस ने स्पष्ट किया है कि यद्यपि राज्य की भाजपा सरकार कोरोना संकट से जूझने में विफल हो गई है और उसके मुख्यमंत्री समेत कई मंत्री भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं लेकिन इसके बावजूद भी वे चाहते हैं कि राज्य की चुनी हुई सरकार अपना काम करें और विपक्ष में जो कांग्रेस की भूमिका है उसमें रचनात्मक विपक्ष का रोल हम पहले की तरह अदा करते रहें।
प्रदेश कांग्रेस महामंत्री संगठन विजय सारस्वत और उपाध्यक्ष धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि यह उत्तराखंड का दुर्भाग्य है कि कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने बहुत पहले राज्य में प्रवासियों के लिए क्वारंटाईन  केंद्र राज्य की सीमाओं पर बनाने की बात कही थी और साथ ही प्रधानों को  प्रवासियों के रखरखाव देने के फैसले का आधार पर कड़ा विरोध किया था कि उनके पास गांव में कोरोना से लड़ने के लिए संसाधन नहीं है  परंतु राज्य सरकार ने उनकी राय को नहीं माना। इसका नतीजा यह है कि आज राज्य में मैदानों से उठकर कोरोना पहाड़ों तक पहुंच गया। राज्य में राज्य की स्थिति पिछले दो महीनों में कोरोना के चलते बद से बदतर हुई है और राज्य सरकार का प्रशासनिक खोखला पन भी जनता के सामने आ गया है ।स्वयं मुख्यमंत्री समेत तमाम मंत्रियों ने ऐसा लगता है कि आरोग्य ऐप तक को भी डाउनलोड करना उचित नहीं समझा जबकि स्वयं  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जो भाजपा के और देश के सबसे बड़े पद पर हैं उन्होंने इसके लिए अपील की थी। और यही कारण है कि उनको यह पता ही नहीं चला कि उनके साथी कोरोना की चपेट में आ गए ।उन्होंने कहा कि इसके बावजूद भी कांग्रेस एक प्रजातांत्रिक दल है और पार्टी की पुख्ता राय हैं कि चुने हुई सरकार को अपना काम करने देना चाहिए और जो नेता मुख्यमंत्री ,मंत्री अधिकारी व कर्मचारी अस्वस्थ हुए हैं। पार्टी चाहती है कि वह जल्दी स्वस्थ हो और उस की शुभकामनाएं भी हैं कि वे स्वस्थ होकर अपना दायित्व पूरा करे।
विजय सारस्वत और धीरेंद्र प्रताप ने कहा कि पार्टी क्योंकि प्रजातांत्रिक दल है ऐसे में कुछ लोगों की यह व्यक्तिगत राय हो सकती है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू किया जाए लेकिन उन्होंने कहा कांग्रेस विश्व का सबसे बड़ा प्रजातांत्रिक दल रहा है और हम सदैव यह चाहते हैं कि ष्जब तक बहुत ही ज्यादा गंभीर व विशेष आपातकालीन स्थिति ना हो जाए तब तक राष्ट्रपति शासन को लागू नही किया जाना चाहिए  और चुनी हुई  सरकारों को किसी भी हालत में पदच्युत नहीं किया जाना चाहिए। उन्होंने यद्यपि भाजपा पर आरोप लगाया कि भाजपा जब से केंद्र में आई है उसने भारत के कई राज्यों में कांग्रेस की चुनी हुई और लोकप्रिय सरकारों को षडयंत्र और भ्रष्टाचार से हटाकर निंदनीय कार्य किए हैं जिसका प्रजातंत्र मैं आस्था रखने वाला कोई भी व्यक्ति, कभी समर्थन नहीं कर सकता। उन्होंने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज पूर्व मंत्री श्रीमती अमृता रावत समेत तमाम मंत्रिमंडल कर्मचारी अधिकारियों और राज्य की जनता के, कांग्रेस अध्यक्ष प्रीतम सिंह नेता प्रतिपक्ष डॉ इंदिरा ह्रदयेश व समस्त कांग्रेसजनों की ओर से शीघ्र अति शीघ्र स्वस्थ होने की शुभकामनायें व्यक्त करते हुए,आशा व्यक्त की है कि जल्दी से राज्य के सभी लोग मंत्री से लेकर संतरी तक ठीक होंगे और हम सब लोग मिलकर राज्य को वैभूति की तरफ आगे ले जाने मे  सफल होगे। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति शासन का कोई औचित्य नहीं है। उन्होंने सभी लोगों के शीघ्र स्वस्थ होने  और राज्य के शीघ्र अति शीघ्र  कोरोना मुक्त होने की कामना की।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *