उत्तराखंड का जलियांवाला बाग तिलाड़ी गोलीकांड ।

उत्तराखंड का जलियांवाला बाग  बड़कोट तिलाड़ी गोली काण्ड  ।।                                             बड़कोट / मदन पैन्यूली।                                                                                                                 टिहरी राजशाही के काले अध्याय के तौर पर याद किए जाने वाले तिलाड़ी कांड को आज 90 साल पूरे हो गए ! 30 मई सन् 1930 को तत्कालीन टिहरी रियासत गढ़वाल के महाराजा की सेना ने दीवान चक्रधर जुयाल को नेतृत्वष्ट में उत्तरकाशी के परगना रवाई के तिलाडी नामक मैदान मे शान्ति पूर्वक पंचायत कर रही निहत्थी जनता को बिना किसी पुर्व चेतावनी के तिलाड़ी मैदान को तीन ओर से घेर कर और चौथी ओर से यमुना नदी की तेज धार बह रही थी . सेना ने अंधा धुन्ध गोलियां बरसायी जिससे कई लोग जान बचाने के लिए यमुना में कूद पड़े और तेज पानी की धारा में बह गये थे । और जो लोग पेड़ों के उपर पडे उन्हें भी गोली का शिकार बनाया गया । जनता की भीड़ जान बचाने के लिए भागी तो मैदान मे पडी लाशों को बाद में सेना ने लाशों पर पत्थर बांध कर यमुना नदी में डाला । बताते है कि तिलाही गोली काण्ड जलियावाला बाग हत्याकाण्ड जो 13 अप्रैल 1919 को पंजाब मे हुआ था से भी अधिक कूर एव भयावह था । राजा द्वारा नये वन बन्दोबस्तय का प्लान बनाये जाने के . कारण ही लोगों का आकोश फूट पड़ा और यही वन बन्दोवस्त जनआंदोलन का मुख्य कारण बनदोवस्त का कार्य पहले रवाई जौनपुर से प्रारम्भ किया गया । जिसमें मुनारे खिसका कर गांव के नजदीक चिनवाये गये जिससे आम जनता के हक – हकूको , चरान – चुगान पनपट , पास लकड़ी पर प्रतिबन्ध लगाकर चारागाहों को भी मुन्नार बन्दी में लेकर  आरक्षित वनों की सीमांन्तर्गत ले लिया गया जिससे काश्तकारों को अपने पशुओं के पोषण के लिए चारा जुटाना मुश्किल हो गया था ।

 

जनता पर अत्याचार के अन्य  कृत्यों से त्रस्त रवाई तथा जौनपुर के किसानों का  संगठन प्रारंभ हुआ  तथा सारे प्रांत में पंचायती बनाई गई जिसकी बैठकों के लिए चांदाडोखरी  तिलाड़ी तथा थपला स्थान नियत किए गए तिलाड़ी बड़कोट की  सभा में  मुनारबंदी राजाज्ञ की  भतर्सना की गई तिलाड़ी गोलीकांड में 200 से अधिक लोगों की मृत्यु हुई थी करीब 85 लोगों को एक  साल से ही 20 साल तक कैद की सजा एवं जुर्माना लिया गया था ,आज भी बड़कोट तिलाड़ी शहीद स्मारक में प्रतिवर्ष नगर पालिका बड़कोट के द्वारा मेले का आयोजन कर शहीदों को श्रद्धांजलि दी जाती थी, लेकिन इस बर्ष वैश्विक महामारी कोरना से प्रभावित होने के कारण  तिलाड़ी शहीदों का 90 वर्ष पूर्ण होने पर सूक्ष्म  कार्यक्रम के तहत नगर पालिका बड़कोट द्वारा नगर पालिका अध्यक्ष एवं वार्ड सदस्यों द्वारा सूक्ष्म कार्यक्रम के तहत तिलाड़ी शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई ।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *