बेईमानी रोकने में आधार कार्ड अचूक अस्त्र

देश मे सुशासन के लिये एवं ईमानदारी के लिये आधार कार्ड प्रत्येक कार्य मे लगाना जरूरी है इसके उपयोग करने सेअभि तक आधार लिंक कराने से महाराष्ट्र में 10 लाख गरीब गायब हो गए!उत्तरखण्ड में भी कई लाख फ़र्ज़ी बीपीएल कार्ड धारी गरीब ख़त्म हो गए !तीन करोड़ (30000000 ) से जायदा फ़र्ज़ी एलपीजी कनेक्शन धारक ख़त्म हो गए !मदरसों से वज़ीफ़ा पाने वाले 1,95,000 फर्ज़ी बच्चे गायब हो गए!डेढ़ करोड़ (15000000 ) से ऊपर फ़र्ज़ी राशन कार्ड धारी गायब हो गए!ये सब क्यों और कहाँ गायब होते जा रहे हैं !चोरो का सारा काला चिटठा खुलने वाला है ।इसीलिए
सारे चोरी करने वाले एक होकर माननीय सर्वोच्च न्यायलय में याचिका दायर कर दिया कि  आधार लिंक
हमारे मौलिक अधिकारों का हनन है !चोरों को प्राइवेसी का कैसा अधिकार है।प्रधानमंत्री  ने फर्जी 3 लाख से ज्यादा कम्पनियां बन्द कर दी है!उनके प्रबंधन ,राशऩ डीलर नाराज़ हो गये! जमीन केे दलाल नाराज़ हो गये!ऑनलाइन सिस्टम बनने से दलाल नाराज़ हो गये है! 40,000 फर्जी NGO बन्द हो गये है, इसलिए इन NGO के मालिक ,ई-टेंडर होने से कुछ ठेकेदार भी नाराज़ हो गये!गैस कंपनी वाले नाराज़ हो गये! अब तक 12 करोड लोगो को आयकर के दायरे मै आ चुके लोग नाराज़ होगये। जी यस टी सिस्टम लागू होने से ब्यापारी लोग नाराज़ होगया ।काले को सफेड करने का सिस्टम एक दम से लुंज सा हो गया।आलसी सरकारी अधिकारी नाराज हो गये।क्योकि समय पर जाकर काम करना पड रहा है। वो लोग नाराज हो गये, जो समय पर काम नही करते थे और रिश्वत देकर काम करने मे विश्वास करते।दुख होना लाज़मी है देश बदलाव की कहानी लिख रहा है। सरकार को प्रत्येक नागरिक जिनकी आय डेड लाख ₹ से कम है ।उनको।दो हजार ₹/माह दी जाय तो बेईमानी,अपराध कम होंगे।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *