उत्तराखंड की हितैषी आप नहीं हो सकती आपका बहिष्कार करें – भावना पांडे

यह सब लोग जानते हैं कि आप वही पार्टी है जिसके कारिंदों ने दिल्ली में दंगा भड़काकर उत्तराखंड के बेटे की जान ली।

देहरादून । पहाडोंकीगूँज समाचार,उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारी,

समाजसेवी और उद्यमी भावना पांडे ने आह्वान किया है कि उत्तराखंड में आम आदमी पार्टी का जोरदार बहिष्कार किया जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि आम आदमी पार्टी को उत्तराखंड के हितैषी कहना सारस बेईमानी है वह किसी भी हालत में हमारे लोगों की नहीं हो सकती। भावना पांडे ने जोर देकरकहा कि हमने ये राज्य इतने संघर्ष करने  के बाद बनाया है। और हम अपने राजनीतिक हितों को साधने वाली पार्टी के हाथों इसे किसी भी हालत में नहीं सौंप सकते। उत्तराखंड बहुत संघर्षों और एक लंबी लड़ाई के बाद हमने हासिल किया है। हम उस पार्टी के हाथों इस नहीं सौंप संकते जो दंगे भड़काने में शामिल रही हो और जिसके कर्ताधर्ताओं ने आज तक सिर्फ अपने ही स्वार्थ साधे हों।

राज्य आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाली भावना पांडे ने कहा कि आज आम आदमी पार्टी को लगता है कि उत्तराखंड की जनता विकल्प तलाश रही है तो उसने यहां का रुख कर लिया और अब उत्तराखंडियत के नाम पर सड़कों पर भी उतर रही है। लेकिन वो अपने मंसूबों में कभी कामयाब नहीं होगी। भावना पांडे ने कहा कि जरा याद करिए अन्ना हजारे का वो आंदोलन जो उन्होंने जनलोकपाल के लए लड़ा था। अरविंद केजरीवाल और उनकी टीम ने अपने गुरु अन्ना को ही धोखा देकर राजनीतिक दल बना लिया। ऐसे स्वार्थियों और धोखेबाजों को हम उत्तराखंड को नहीं सौंप सकते। भावना पांडे ने कहा कि हम किसी भी हालत में अपने प्रदेश को शाहीनबाग नहीं बनने देंगे। पांडे ने आरोप लगाया कि आम आदमी पार्टी उत्तराखंड का इस्लामीकरण करने की साजिश रच रही है। उन्होंने आरोप लगाया कि ये वही पार्टी है जिसके कारिंदों ने दिल्ली में दंगा भड़काकर उत्तराखंड के बेटे की जान ली।

भावना पांडे ने कहा कि ये सच है कि उत्तराखंड की जनता विकल्प की तलाश कर रही है लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि हमारे पास विकल्प नहीं हैं। आखिर हम उस पार्टी और उसके ऐसे कर्ताधर्ताओं को पहाड़ कैसे सौंप दें जो पहाड़ से आजतक रूबरू नहीं हुए। आखिर आम आदमी पार्टी में उत्तराखंडियत नाम की कौन सी बात है। वो कभी भी पहाड़ के मुद्दों से न वाकिफ रही है और न ही वो पहाड़ के लिए कुछ कर सकती है। आम आदमी पार्टी कई राज्यों में चुनाव लड़कर देख चुकी है। सभी जगह उसका हश्र बुरा हुआ है। दिल्ली के अलावा किसी भी राज्य में चाहे वो हरियाणा हो, गुजरात हो या अन्य राज्य। किसी भी राज्य के लोगों ने उसे नहीं स्वीकारा। उत्तराखंड के लोग भी उसको स्वीकारने के लिए कतई राजी नहीं हैं।

भावना पांडे ने कहा कि आम आदमी पार्टी के खिलाफ हमारा संगठन सड़कों पर उतरेगा और इनके स्वार्थों और मंसूबों की पोल खोलेगा। उन्होंने कहा कि मुझे अंदेशा है कि आम आदमी पार्टी अभी सिर्फ उत्तराखंड के लोगों को टटोल रही है। वह देख रही है कि उसके लिए 2022 में चुनाव लड़ने का सही वक्त है या नहीं? जब उसको पता चल जाएगा कि यहां उसकी स्वीकार्यता नहीं है।

तो वो खुद ही चुनाव से ऐन पहले अपने पैर खींच लेगी जैसा कि उसने राजस्थान में किया था। भावना पांडे ने कहा कि अगर आम आदमी पार्टी चुनावी मैदान में उतरी तो वह खुद अपने संगठन के लोगों को प्रदेश की सभी 70 विधानसभा सीटों से चुनाव लड़ाएंगी और आम आदमी पार्टी को सबक सिखाएंगी। उन्होंने कहा कि उत्तराखंड की जनता को खुलकर आम आदमी पार्टी का विरोध करना चाहिए।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *