विरेन्द्र सिंह रावत को मिला ग्लोबल एजुकेशन एक्सीलेंस अवार्ड 2020 ” स्पोर्ट्स एजुकेशन एंड एडमिनिस्ट्रेशन

देहरादून पहाडोंकीगूँज समाचार,

विरेन्द्र सिंह रावत को मिला ग्लोबल एजुकेशन एक्सीलेंस अवार्ड 2020 ” स्पोर्ट्स एजुकेशन एंड एडमिनिस्ट्रेशन”*
उत्तराखंड के प्रसिद्ध नैशनल फुटबाल कोच और क्लास वन रेफरी, अनगिनत अंतराष्ट्रीय, राष्ट्रीय और स्टेट अवार्ड से सम्मानित, खेल के विकास के लिए जीवन समर्पित को मिला भारत के प्रसिद्ध प्राइम टाईम मीडिया, नई दिल्ली के वाईस प्रेसिडेंट  के डी ठाकुर के द्वारा मेल से आज दिनाँक 24 अगस्त 2020 को प्राप्त हुआ।
विरेन्द्र सिंह रावत का ये 7वा अंतराष्ट्रीय अवार्ड है और 23 नैशनल और 20 स्टेट अवार्ड को मिलाकर 50 अवार्ड हो चुके है
बड़ी खुशी की बात है कि विरेन्द्र सिंह रावत की उम्र भी इस वक़्त 50 प्लस चल रही है और उनको भारत सरकार और विभिन्न राज्यों की संस्थाओं से खेल के क्षेत्र में उचित काम करने के लिए अवार्ड मिल चुके है और मिल रहे है
रावत ने खेल के क्षेत्र में 22 साल से उचित काम करने और एक अलग ही पहचान बनाई है बेबाक और सच के लिए संघर्ष करने पर बिल्कुल नहीं चूकते चाहे कोई भी हो खिलाडियों, कोचों और रेफरी यों हो या समाज मे शोषित इंसान के लिए अपनी बुलंद अवाज के और अपनी बेह्तरीन लेखनी से जागरूक करते रहते है
इसलिए पूरे भारत में उनकी एक अलग ही पहचान है लोगों को मोटीवेट करना, सकारात्मक सोच के साथ आगे बढ़ाते है और हर क्षेत्र मे खेल का छेत्र हो, घर कर हर कार्य हो कुछ भी हो उसको बखूबी से अंजाम देते है इसलिए करोडों लोगों के दिलों मे राज करते है उनकी फिटनेस के हर कोई कायल है सोशल मीडिया हो प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया हो सभी मे छाए रहते है और हर एक अंजान इंसान को भी जागरूक करते रहते है, मंत्री हो या बड़ा अधिकारी हो सभी उनकी तारीफ किए बिना नहीं थकते 16 साल की उम्र जैसा जोश है रावत पर, कपिल शर्मा कॉमेडी शो मे उनके कोलेज के दोस्त जो डायरेक्टर है भारत कुकरेती भी कायल है उनकी फिटनेस और काम के उन्होंने भी बोला है कि जैसे ही कोरोना महामारी खत्म होती है आपको कपिल शर्मा कॉमेडी शो में शीघ्र बुलाएंगे और आपका अनुभव साझा करेंगे
रावत ने सभी से अनुरोध किया है कि आप केवल अपना कर्म करते रहो कई बर्षों के बाद आपको जरूर सफलता मिलेगी क्युकि ये मेरी उपलब्धिया 40 साल की मेहनत की है मेने 30 साल बहुत गरीबी देखी है 50 रुपये की नौकरी से अपना जीवन स्टार्ट किया था और कभी हार नहीं मानी दुनिया ने बहुत शोषण किया लेकिन निरंतर चलता रहा मन मे हौसला हो तो जरूर आप हार के बाद जरूर जीतोगे
इसलिए हमेशा खुश रहो, मस्त रहो,फिट रहो, हसते रहो चाहे कितनी भी मुसीबत आए, चाहते रहो, समय का सदुपयोग करे इंसानियत रखो, सकारात्मक रहो, दुनिया का भला करते रहो

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *