आज के दिन एक वर्ष पूर्व उवमए के प्रदेशाध्यक्ष सेमवाल के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारियों को ज्ञापन दिया-जीतमणि पैन्यूली

उवमए के प्रदेशाध्यक्ष सेमवाल के नेतृत्व में स्वास्थ्य विभाग के उच्चाधिकारियों को ज्ञापन दिया-जीतमणि पैन्यूली

   

देहरादून,उत्तराखंड वेब मीडिया एसोसिएशन के संरक्षक जीतमणि पैन्यूली ने कहा कि शिव प्रसाद सेमवाल प्रदेशाध्यक्ष  उत्तराखण्ड वेब मीडिया एसोसिएशन के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल ने  युगल किशोर पंत मिशन निदेशक नेशनल हेल्थ मिशन उत्तराखंड एवं महानिदेशक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, उत्तराखंड के साथ मुलाकात की तथा उन्हें विभाग द्वारा सीधे गूगल को विज्ञापन जारी किए जाने की परिपाटी पर सूचना विभाग के द्वारा बनाई गई  नियमावली के अनुसार अपना विरोध दर्ज कराया।

ज्ञापन के माध्यम से प्रतिनिधिमंडल ने दोनों ही उच्चाधिकारियों को सूचित किया कि स्वास्थ्य विभाग की उपलब्धियों तथा आम जनमानस की स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं को जन सामान्य व शासन प्रशासन तक पहुंचाने में उत्तराखंड के न्यूज पोर्टल्स का निशुल्क अहम योगदान है जबकि टी वी, प्रिंट मीडिया को विज्ञापन आदि प्रकाशन करने पर दर्शकों,पाठकों से अपनी शुक्ल लेते हैं। उत्तराखंड की विषम परिस्थितियों में कार्य कर रहे तमाम पत्रकार साथी काफी लंबे समय से अपनी इस जिम्मेदारी का निर्वाहन भली-भांति कर रहे हैं ।लेकिन देखा जा रहा है कि स्वास्थ्य विभाग अपनी तमाम योजनाओं के प्रचार प्रसार व विज्ञापन संबंधी अन्य जानकारियों के लिए सीधे गूगल को संपर्क साध रहा है जिससे कहीं ना कहीं राज्य की विज्ञापन नियमावली का उल्लंघन होने के साथ ही साथ उत्तराखंड के लिए दर्द रखने के साथ साथ निशुल्क सेवा देने वाले पत्रकारों के हितों पर भी कुठाराघात हो रहा है।

अतः उत्तराखंड वेब मीडिया एसोसिएशन अपने इस ज्ञापन के माध्यम से विभाग की इस कार्यप्रणाली पर अपना विरोध दर्ज कराते हुए अनुरोध किया है कि विभाग द्वारा गूगल पर दिए जा रहे विज्ञापनों को तुरंत संज्ञान में लेते हुए उन पर रोक लगाई जाए एवं भविष्य में उत्तराखंड के न्यूज़ पोर्टल को विज्ञापन हेतु  सूचना विभाग उत्तराखंड में सूचीबद्ध समस्त वेब पोर्टल्स को विज्ञापन जारी किये जायें।

 मिशन निदेशक नेशनल हेल्थ मिशन युगल किशोर पंत के साथ हुई इस वार्ता में उत्तराखंड के समस्त पत्रकारों को आयुष्मान योजना के अंतर्गत हेल्थ कार्ड जारी किए जाने के मुद्दे पर भी एसोसिएशन द्वारा पत्रकारों का पक्ष रखा गया जिस पर निदेशक  युगल किशोर पंत द्वारा  प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया गया कि इस परिपेक्ष्य में विभाग जल्दी ही पत्रावलियों के माध्यम से  मुख्यमंत्री  का अनुमोदन लेकर सूचना एवं लोक संपर्क विभाग उत्तराखंड में कैंप आयोजित कर समस्त पत्रकारों को यह सुविधा अति शीघ्र प्रदान की जाएगी।

राजधानी के साथ ही साथ राज्य के अन्य क्षेत्रों में भी पत्रकारों को जिला सूचना कार्यालय व अन्य माध्यमों से अटल आयुष्मान योजना के साथ जोड़कर इस लाभ को दिया जाएगा। 

सुधी पाठकों से अनुरोध है कि सबसे पहले निशुल्क खबरों को सबसे पहले आप तक पहुचाने में लगे रहते है यह कार्य विज्ञापन ,दान देने से  दुनिया के कोने कोने में खबरों को पहुंचाने में सबसे तेज निकल रहा है।आपके सहयोग से चल रहा। अपने श्रद्धालुओं पाठकों से अनुरोध है कि विज्ञापन,दान करने के रूप में सहयोग करना चाहते हैं

यदिआप सहयोग राशी भेजना चाहें।

pahadon ki goonj  a/c 705330110000013   

IFSC : BKID0007053 bank of Inda haridwr. road देहरादून।

वार्ता के समस्त सकारात्मक पक्षों को देखते हुए वार्ता में मौजूद संगठन के पदाधिकारियों ने दोनों ही अधिकारियों को वार्ता हेतु अपना बहुमूल्य समय देने व इस सकारात्मक रुख के लिए धन्यवाद दिया।

इसके साथ ही संरक्षक जीतमणि पैन्यूली ने कहा कि टिहरी बांध प्रभावित प्रतापनगर में स्वास्थ्य सेवा अन्य कार्यक्रम को संचालित करने के लिए पर्याप्त डॉक्टर अन्य स्टाफ भेजने के लिए व्यक्तिगत रूप से ध्यान देते हुए व्यवस्था सुचारू रूप से कराने की कार्यवाही करें।सकारात्मक कार्यवाही करने के लिए वह प्रयास रत बताया हैं। जीतमणि पैन्यूली ने सभी साथियों को प्रतापनगर की समस्या को अनोपचारिक रुप से समलित करने के लिए धन्यवाद दिया है।

 इस प्रतिनिधिमंडल में एसोसिएशन के अध्यक्ष  शिव प्रसाद सेमवाल  महासचिव संजीव पंत,संरक्षक जीतमणि पैन्यूली , सहसचिव सोमपाल ,अनिल जोशी ,मनीष व्यास आदि वेब मीडिया के पत्रकार मौजूद थे।

एक साल बीत जाने के बाद भी पोर्टल को विज्ञापन देने के लिए निदेशक ने कोई निर्णय नहीं लिया है

उत्तराखंड में लोकतंत्र के चौथे स्तंभ मीडिया की बात को कोई अधिकारी प्राथमिकता से नहीं लेने से जहां धन की बर्बादी नहीं रूक रही है वहीं योजनाओं का प्रचार प्रसार के अभाव में जनता तक नही पहुंचना जनता के हित में नहीं होने से राज्य के विकास में अधिकारियों की लापरवाही बाधक बनने जारही है। उत्तराखंड के विकास में अधिकारियों की इच्छा शक्ति के अभाव प्रदेश बहुत ही ज्यादा सम्पदा युक्त होने बाबजूद बेरोजगारी, पलायन की महामारी का सबसे ज्यादा शिकार होने जारहा है।यह राज्य के लिए अच्छे लक्ष्य पाने में बाधक होरहा है।बहुत सुधार लाना होगा।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *