अगर अगली बार कद्दू की सब्जी बना रहे हैं तो उसके बीज को फेंकने की बजाय खाने में इस्तेमाल कीजिये और कुदरत के दिए अनमोल स्वास्थ्य लाभ का फायदा उठाइये  

देहरादून,भारत में हरी और स्वादिष्ट सब्जियों की बेहिसाब वेरायटी मौजूद है ….विविधताओं से भरे देश में खानपान के साथ साथ सेहतमंद खुराक को भी तवज्जो दी जाती है। करेला , लहसुन , अदरख , पालक , लौकी के स्वास्थ्य वर्धक फायदे सबको पता हैं। डॉक्टर्स भी बीमारी और अलग अलग रोगों में विशेष सब्जियों को खाने की सलाह देते हैं। यूँ तो आपने शादी ब्याह और रोजमर्रा में कद्दू [ कोहड़ा ] की सब्जी गर्मागर्म पूरियों के संग खूब खायी होगी लेकिन क्या आपने उसके बीज भी खाये हैं ?

एकदम से आपका जवाब होगा नहीं , लेकिन इसके कद्दू के बीजों को गुणकारी होने के बावजूद सब्जी बनाते समय हम अक्सर यूं ही निकाल कर फेंक देते हैं। अब होम साइंस कॉलेज की ताज़ा रिसर्च में पता चला है कि पेठे के बीज यानी कद्दू के वो बीज जिनको फेंक देते हैं ।

उनमें पोषण का भण्डार होता है …..  जो रोग

विज्ञापन की दर
पूर्ण पृष्ठ रँगीन 21000 हजार
1/2 पृष्ठ ₹11000
1/4पृष्ठ₹5500 ,
विजटिंग कार्ड साइज ₹1500

दर श्वेत श्याम
श्वेत श्याम पूर्ण पृष्ठ ₹15000
आधा पृष्ठ1/2₹ 8000
1/4 पृष्ठ₹40000
विजटिंग कार्ड ₹1000

वट्सप no 7983825336

-प्रतिरोधी क्षमता को बढ़ाने और कुपोषण से लड़ने में सहायक बताये गए हैं। यह अनुसंधान कार्य एचएयू हरियाणा के हिसार में होम साइंस कॉलेज के खाद्य एवं पोषण विभाग की शोध छात्रा डॉ. नीता कुमारी ने किया है। इस बेहद ख़ास और रोजमर्रा से जुडी खोज आपके लिए भी स्वास्थ्य वर्धक खोज साबित हो सकती है। 

आपकी हड्डियों को मजबूत कर देंगे पेठा कद्दू के बीज
हिसार में होम साइंस कॉलेज से पीएचडी करने वाली डॉ. नीता कुमारी की इस रिसर्च में खाद्य एवं पोषण विभाग की खोज तब संभव हुयी जब ‘कद्दू के बीज का प्रसंस्करण और खाद्य उत्पाद विकास का उपयोग’ विषय पर शोध कार्य शुरू किया गया । रिसर्च में पता चला है कि कद्दू के बीज पोषण का भण्डार होने के साथ-साथ वसा व प्रोटीन से भी भरपूर हैं, जो कुपोषण की बीमारी को रोकने में सहायक हैं।

पेठा कद्दू के बीज में बड़ी मात्रा में खनिज लवण जैसे कैल्शियम व मैग्नीशियम पाए जाते हैं जो हड्डियों को मजबूत व आस्टियोपोरोसिस को रोकने में मददगार होते हैं। ख़ास बात तो ये है कि ये करामाती बीज खाने से हड्डियों के फ्रैक्चर को भी आप कम कर सकते हैं क्यूंकि कद्दू के बीजों में फास्फोरस व जिंक भी पाया जाता है। शोध से ये भी पता चला है कि कद्दू के बीजों में वसा, फाइबर, प्रोटीन तथा खनिज लवण जैसे कैल्शियम, मैगनीशियम, जिंक, आयरन या लौह तत्व, पौटेशियम व फास्फोरस पाए जाते हैं।

पेठा कद्दू के बीजों से ये बना सकते हैं उत्पाद
इस आम आदमी से जुड़ी रिसर्च को अंजाम देने वाली डॉ. नीता ने बताया रिसर्च के दौरान उन्होंने कद्दू के बीजों को कई तरीके से प्रयोग किया जैसे उबालना, भूनना, अंकुरण व किंवीकरण आदि करके उनसे बिस्किट, कूकिज, ढोकला, ब्रेड, लापसी, कप केक व लड्डू बनाये थे , जो कि न सिर्फ स्वाद में बल्कि ऊर्जा, प्रोटीन व खनिज लवणों से भरपूर थे। उन्होंने सलाह भी दी है कि कद्दू के बीजों को भूनकर भी खाया जा सकता है और भूनने के बाद इन्हें पीसकर खाद्य पदार्थ के रूप में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

तो आप भी अगर अगली बार कद्दू की सब्जी बना रहे हैं तो उसके बीज को फेंकने की बजाय खाने में इस्तेमाल कीजिये और कुदरत के दिए अनमोल स्वास्थ्य लाभ का फायदा उठाइये  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *