सीरिया बनने जारहे उत्तराखंड को रोकने में विशेषांक का सहयोग करें -जीतमणि पैन्यूली

पहाड़ों पर रोजगार यात्रा एवं पर्यटन से सभी लोगों के लिए निर्माण का अच्छा   विकास के कार्य मिलने लगते है।उत्तराखंड के विकास को बढ़ाने का अल्प प्रयास विशेषांक करने का उद्देश्य है।

देहरादून,सम्मानित सुधी पाठकों से अनुरोध है  उत्तराखंड में आदि शंकराचार्य जी ने हमारे आस्था के चारधाम में यमनोत्री ,गंगोत्री, केदारनाथ, बदरीनाथ के साथ साथ अन्य मंदिरों की स्थापना कर, हमारी संस्कृति को जीवित रखने के साथ साथ हमें ईमानदारी से जीवन यापन करने के लिए विश्व में प्रसिद्ध तीर्थ स्थलों का निर्माण कर साधरण स्वर्ग बनाया है।साधु संतों में ज्ञान पिपाशु बने रहने के लिए प्रकाश पुंज का केंद्र

बनाकर हमें मनुष्य जीवन मेंं जीने के लिए,उच्च विचारों को 

बनाये रखने के लिए साधन के रूप में रोजगार के साधन है।

विश्व  के श्रद्धालुओं पुण्य प्राप्त करने के लिए चारधाम बनाये हैं।यात्रा के लिए प्रकृति ने सुंदर रूप में अपनी गोद में सुंदर पर्यटन स्थल दिये हैं। आज की स्थिति में यात्रा, पर्यटन  के लिए सड़के बनगई हैं परन्तु  स्थानो के  जगह-  जगह की जनकारी देकर उसका का प्रचार प्रसार नहीं हो सका है ।उनकी जनकारी  पर्यटन, तीर्थाटन, साहसिक पर्यटन, के साथ साथ सभी समसामयिकी विषय विशेषज्ञों के हृदय स्पर्श करने वाले जन उपयोगी लेख के माध्यम जानकारी देने का  प्रयास है।पूर्व में समाचार

के द्वारा समय समय पर  उत्ततराखंड केे

तीर्थ स्थलों की जानकारी देने का प्रयास करने से यात्रा, एंव पर्यटन को बढ़ावा  मिला है। आज

प्रदेश की हालत सीरिया बनने में अब देर नहीं है।माफियों से एक प्रकार से बन गया है।उत्तराखंड राज्य का मतलब मात्र देहरादून ,हल्द्वानी ,हरिद्वार ,उधमसिंह नगर  मानसिकता के कारण बन कर होगया है।पहाड़ पर रोजगार यात्रा एवं पर्यटन से सभी लोगों के लिए निर्माण का अच्छा   विकास के कार्य मिलने लगते है।उत्तराखंड के विकास को बढ़ाने का अल्प प्रयास करने का उद्देश्य है।

आपको जानकर हर्ष होगा कि पहाड़ों की गूंज राष्ट्रीय हिंदी साप्ताहिक  समाचार पत्र 10 वें वर्ष में प्रवेश करने जारहा है ।पत्र की खबरों का संज्ञान देश, प्रदेश की सरकारों ने लेकर जन हित के कई काम  किये।जनहित के कार्य करने के फल स्वरूप पत्र की लोकप्रियता देश में बढ़ी है।इस अबसर पर  पहाड़ों की गूंज प्रकाशन समुह उत्तराखंड में ज्ञान पिपाशु की जिज्ञासा बनाये रखने के,रोजगार को बढ़ावा देने पलायन को रोकने के लिए ठोस अल्प प्रयास विशेषांक के रूप में करने जारहा है।52अंक आने वाले  7मार्च 2020 को  प्रकाशित होने जारहा है। उत्तराखंड के पर्यटन , तीर्थ ,धार्मिक,एवं अन्य रमणीय स्थानों की रुचिकर जानकारी  के माध्यम से सुधी पाठकों में  उत्तराखंड आने के लिए  जिज्ञासा को बढ़ावा देने का  पत्र पत्रिका के रूप में काम करेगा।विशेषांक को देश में विदेश के दूतावास , कारपोरेट कार्यलयों,विश्विद्यालय, के साथ साथ

प्रत्येक जिला पंचायत, विकास खण्ड, नगर पालिका परिषद , सांसद ,विधायक महान भाव  तक पहुचाने का प्रयास है । तीर्थ स्थल, पर्यटक स्थल ,आध्यत्मिक,

सहासिक खेल हमारे प्रदेश के लिए रोजगार के अबसर देते हैं।इस वर्ष 30 अप्रैल से प्रारंभ होने वाली चारधाम यात्रा व आगामी वर्ष 2021 में होने वाले कुम्भ में आने के लिए पत्रिका की पठनीय सामग्री जिज्ञासा बढ़ाने में सहायक सिद्ध होगी। यह आपके सहयोग  से  सम्भव होगा। आपसे अपनी ओर से शुभकामना ,संस्थान  प्रगति आख्या विज्ञापन  प्रकाशन के लिए भेजने की अपेक्षा  करते हैं ।

1-श्याम श्वेत पूर्ण पृष्ठ ₹ 15000

2-आधा पृष्ठ,,₹7500 

3-चौथाई पेज ₹ 3750,  

4-2.5सेमि की पट्टी ₹ 1200

नोट-रंगीन के लिए 50%बढ़ोतरी के साथ अग्रिम भेजने की कृपा करें।  पत्र से भेजडीजयेगा।

आप अपनी प्रति बुक कराने के लिए सहयोग राशि 25 रुपये   pahadon ki goonj के खाते में भेजने की कृपा करें।

Bank of india

Pahadon ki goonj a/c -705330110000013,

Ifsc – BKID0007053,   branch -code7053,  micr code -248013004,  pan -BLVPM3454K

11/10 Rajpur road dehradun 248001

अपना पता व जमा धन राशि वाटस न07983825336,  मेल id -pahadonkigoonj@gmail.com से भेजडीजयेगा।

जीतमणि पैन्यूली

स्वामी, प्रकाशक, मुद्रक,सम्पादक एवं पूर्व संरक्षक श्री बद्रीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति कर्मचारी संघ।

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *