उत्तराखंड वेब पोर्टल एसोसिएशन एवं उत्तराखंड पत्रकार संघठन समन्वय समिति ने अमित कुमार शर्मा शामली के पत्रकार के साथ रेलवे पुलिस के द्वारा अभद्रता करने के खिलाफ गांधी पार्क में 10 से 12 बजे तक धरना प्रदर्शन किया गया

  देहरादून,उत्तराखंड वेब पोर्टल एसोसिएशन एवं उत्तराखंड पत्रकार संघठन समन्वय समिति ने अमित कुमार शर्मा शामली के पत्रकार के साथ रेलवे पुलिस के द्वारा अभद्रता करने के खिलाफ गांधी पार्क में 10 से 12 बजे तक धरना प्रदर्शन किया गया प्रदेशाध्यक्ष जीतमणि पैन्यूली ने मानसिक रूप से विषमताओं के चलते आज पत्रकार स्वयं के कारण पीड़ित हैं।जो उनके लिए बड़ा धोखा होरहा है।इस धरने से पता लगाना मुश्किल नहीं है कि पत्रकार आज कितना डरा हुआ है कि अपनी आजादी की अभिव्यक्ति की रक्षा करने में किसी के पीछे मोहताज नहीं है।धरना प्रदर्शन जीतमणि पैन्यूली के नेतृत्व में क्या. बरिष्ट पत्रकार सजंय थपलियाल, चेतन कंसवाल, डी यस माथुर, मनीषा राणा, मनोज कुमार, आदि पत्रकार ने धरना दिया।पैन्यूली ने कहा कि पत्रकार का काम जनता से जुड़ा होता है।इस लिए जो उनकी रिपोर्टिंग करते समय बाधा उत्पन्न करते हैं उनके खिलाफ कानूनी प्रक्रिया के तहत उच्चतम न्यायालय से जमानत याचिका दायर करने का प्रविधान हो उसके लिए कानून बनाने का कार्य सरकार को 10 साल की सजा देने के साथ करना चाहिए ।आये दिन पत्रकार बन्दुओं के साथ दुर्व्यवहार किया जाता है ।उल्टा पत्रकार के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया जाता है।जांच के बगैर पत्रकार के खिलाफ मुकदमा दर्ज नहीं किया जाना चाहिए।

पैन्यूली ने जोर देकर कहा कि पत्रकार मित्रो देश मे केंद्र सरकार ने पत्रकारों को लालच दिया। उसमें उन्हें कामयाबी नहीं मिली है तो उत्तरप्रदेश में राज करने वाली सरकार ने पत्रकारों को पिटवाना सरकारी गुंडों से सुरु कर दिया है आप लोकतंत्र को समाप्त करने की साजिश रचकर उसके अमल में लाकर हिंदी भाषी राज्यों में ताना साही के बल पर पत्रकारों को मारने का खेल खेल कर चौथे स्तम्भ पर अंकुश लगाने का घटिया रास्ता निकाला कर जनता की आवाज को दबाने का घिनौना प्रयास किया गया है।उत्तर प्रदेश के शामली में पत्रकार की पिटाई करने और उसे थाने के लॉकअप में रखने के मामले में जीआरपी के दो पुलिसकर्मियों को निलंबित कर दिया गया है। जीआरपी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि पत्रकार को बुधवार सुबह लगभग सात बजे रिहा कर दिया गया। उत्तर प्रदेश सरकार के एक वरिष्ठ अधिकारी ने शामली के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (अजय कुमार पाण्डेय) के हवाले से बताया कि समाचार चैनल के पत्रकार अमित शर्मा से जुड़ी घटना में अधिकारियों ने कार्रवाई की है। शामली जीआरपी के एसएचओ राकेश कुमार और एक कांस्टेबल को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि भविष्य में ऐसे प्रकरणों में कड़ी कार्रवाई की जाएगी। हिरासत में लिये गये पत्रकार को रिहा करने के आदेश दे दिये गये हैं।

मंगलवार देर रात एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें पत्रकार को सादी वर्दी पहने जीआरपी पुलिसकर्मियों द्वारा कथित तौर पर लगातार थप्पड़ और घूसे मारते देखा गया। उसके बाद पत्रकार को लॉकअप में रखा गया। सहारनपुर के क्षेत्राधिकारी जीआरपी राम लखन मिश्र ने बताया कि पत्रकार शामली में एक मालगाड़ी के कुछ डिब्बे पटरी से उतरने के बाद उस घटना को कवर करने गया था। उसी समय उसकी जीआरपी कर्मियों से कहासुनी हो गयी।
बाद में उत्तर प्रदेश पुलिस ने ट्वीट किया कि हमें एक वीडियो देखने को मिला है, जिसमें एक पत्रकार को पीटा जा रहा है और लॉकअप में रखा गया है। डीजीपी ओ पी सिंह ने शामली जीआरपी एसएचओ राकेश कुमार और कांस्टेबल संजय पवार को तत्काल निलंबित करने के आदेश दिये हैं। नागरिकों के साथ बदसलूकी करने वाले पुलिसकर्मियों को कड़ा दंड दिया जाएगा।
इस बीच, अमित शर्मा ने एक वीडियो मैसेज में कहा कि जीआरपी अधिकारी और रेलवे के अधिकारी मौके पर मौजूद थे, जहां मैं कवरेज के लिए गया था। जीआरपी के कर्मियों ने अन्य पुलिसकर्मियों के साथ मिलकर मुझे पीटा। जिस मोबाइल फोन का उपयोग मैं खबर शूट करने के लिए करता था, उसे भी पटक दिया गया। अब मोबाइल फोन गायब है। उन्होंने मुझसे गाली गलौज भी की। शर्मा ने कहा कि उन्हें लॉकअप में रखा गया। बाद में वे मुझे लॉकअप से बाहर ले आये। उन्होंने मुझे कपड़े उतारने पर बाध्य किया और फिर मेरे उपर पेशाब किया। राम लखन मिश्र ने हालांकि पत्रकार के आरोपों से इनकार किया है ।जनता की गाड़ी कमाई से जिनकी रोजीरोटी चलती है उस जनता की परेशानी का खुलासा पत्रकार नहीं करने पाय इसकी पाठ शाला योगी आदित्यनाथ के राज में सरकारी नौकरी करने वाले गुंडे लोगों से सुरु कर जनता की जबाब देही से हटने का काम करने के लिए उत्तराखंड के वासी होने के नाते उत्तराखंड को कलंकित करने का भी काम किया है।उत्तराखंड के भारत रत्न गोविंद बल्लभ पंत, हेमवतीनंदन बहुगुणा,4बार मुख्यमंत्री रहे नारायण दत्त तिवारी जिन्होंने ने लोकतंत्र को बढ़ावा देने के लिए अनेक प्रकार के कार्य किये। नोयडा प्रदेश की अर्थव्यवस्था को मजबूती प्रदान करते हुए प्रदेश ही नहीं देश को आर्थिक रूप से मजबूत किया उनके नाम को भी इस घटना ने कलंकित करने में ,गर्व से उत्तराखंड के लोग में सच्चाई से चलने वाले लोगों को अपने सीने को झुकना पड़ रहा है।यह अत्यंत चिंतनीय है। इस के विरोध में आज सुबह10से12 बजे तक गाँधी पार्क देहरादून में शांति पूर्ण ढंग से विरोध प्रदर्शन करने के लिए धरने पर बैठें। सभी पत्रकारिता करने वाले मित्रो ने अपनी उपस्थिति दर्ज कर विरोध प्रकट कर धरना स्थल पर धरना को सफल बनाया।आज अमित कुमार के साथ जो हुआ वह आगे आपके साथ होने के लिए आपको पिटाई कर मारने का तय करते हुए आपकी बेइज्जती करनी है।
सादर जीतमणि पैन्यूली
अध्यक्ष उत्तराखंड वेब पोर्टल एसोसिएशन
एवं
संयोजक उत्तराखंड पत्रकार संगठन समन्वय समिति देहरादून सम्पर्क करें
9456334283

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *