बॉम्बे हाईकोर्ट ने हस्तक्षेप किया और दादरा नागरा हवेली और दमन और दीव में गुड फ्राइडे की छुट्टी घोषित करने के लिए ईसाई समुदाय ने न्यायालय का आभार जताया है

देहरादून मुंबई:बॉम्बे हाईकोर्ट ने हस्तक्षेप किया और दादरा नागरा हवेली और दमन और दीव में गुड फ्राइडे की छुट्टी घोषित की  _ ईसाई समुदाय समय पर हस्तक्षेप के लिए न्यायपालिका का आभारी है * दादरा और नगर हवेली और दमन और दीव के केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन द्वारा रद्द करने के नोटिस के बाद, यह घोषणा करते हुए कि इस वर्ष 2019 का ‘गुड फ्राइडे’ राजपत्रित अवकाश होगा, जिससे उन क्षेत्रों में ईसाई समुदाय भारी संकट से घिर जाएगा। गुड फ्राइडे की छुट्टी को सार्वभौमिक रूप से पवित्र माना जाता है। दादरा और नगर हवेली में गुड फ्राइडे की छुट्टी को रद्द करने के प्रशासन द्वारा निर्णय पूरी तरह से अस्वीकार्य और अनुचित था और ईसाई समुदाय ने इस तरह के कदम की निंदा की क्योंकि यह ईसाई अल्पसंख्यकों के अधिकारों पर सीधा हमला करता है। दुनिया भर में, गुड फ्राइडे को धर्मनिरपेक्ष समाजों में भी जाना जाता है, क्योंकि यह बहुत पवित्र ईसाई अवकाश है, और भारत सरकार ने भी पिछले 72 वर्षों से इसे राष्ट्रीय अवकाश के रूप में राजपत्रित किया है। इसलिए इसे बंद करना, देश में ईसाई समुदाय की भावनाओं को बहुत प्रभावित करता है क्योंकि यह इन आगामी चुनावों के दौरान कुछ समूहों द्वारा सांप्रदायिक सद्भाव को कम करने का प्रयास भी है। हालांकि ईसाई जनसांख्यिकी में एक सूक्ष्म अल्पसंख्यक हैं, सामाजिक विकास में इसका महत्वपूर्ण योगदान जो दो तिहाई है, इस देश में निर्विवाद है। राष्ट्र को कई क्षेत्रों में कम करने और खुश करने के अपने निस्वार्थ प्रयासों के लिए ईसाई समुदाय की सराहना करने के बजाय, गुड फ्राइडे की छुट्टी किसी भी परिस्थिति में पूरी तरह से अनुचित और अनुचित थी। इस अन्याय के खिलाफ सरकारी अधिकारियों से अपील करने के बाद, जो एक बहरे कान के रूप में बदल गए, ईसाई समुदाय ने * एडीएफ * को इस अन्याय को रोकने के लिए उच्च न्यायालय से निवारण की तलाश करने के लिए मजबूर किया, जो कि वे समय पर हस्तक्षेप के लिए न्यायपालिका के आभारी हैं। माननीय। मुख्य न्यायाधीश हमारे तर्कों से सहमत थे कि धार्मिक अल्पसंख्यक की छुट्टी मनमाने ढंग से रद्द नहीं की जा सकती जो धर्मनिरपेक्षता के मूल सिद्धांतों के खिलाफ जाती है। हम सीनियर वकील हरेश जगतियानी के भी आभारी हैं, जिन्होंने हमारे सामने आने के लिए अपने व्यस्त कार्यक्रम से समय निकाला। हम Adv.Jayant Bardeskar और Adv.Siju Thomas और Bro.Gul Kripalani के प्रयासों का भी धन्यवाद करते हैं जिनके प्रयासों से हमें Sr.C बरस के हरेश जगतियानी की सेवा मिली * * अम्भम मथाई * राष्ट्रपति- भारतीय ईसाई आवाज़ और एलायंस डिफेंडिंग फ्रीडम * (ADF) के सलाहकार *

क्या है ईस्टर गुड फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे 19 तारीख को है गुड फ्राइडे

गुड फ्राइडे को होली फ्राइडे, ब्लैक फ्राइडे या ग्रेट फ्राइडे भी कहते हैं। यह त्यौहार ईसाई धर्म के लोगों द्वारा कैलवरी में ईसा मसीह को सलीब पर चढ़ाने के कारण हुई मृत्यु के उपलक्ष्य में मनाया है।

उक्त अंग्रेजी का अनुबाद किया गया है

* Bombay High Court intervenes and declares Good Friday Holiday in Dadra Nagra Haveli & Daman and Diu * * _The Christian community is grateful to the judiciary for timely intervention_ * Following the cancellation notice by the Union Territories of the Dadra and Nagar Haveli and Daman and Diu, declaring that ‘Good Friday’ of this year 2019 would have ceased to be a gazetted holiday, due to which the communities in the Christian community were overwhelmedly distressed As the Good Friday The decision by the administration to scrap off the Good Friday holiday at Dadra and Nagar Haveli was totally unacceptable and unjustifiable and the Christian community vigorously condemned such a move as it meant Christian minorities of rights on a direct attack. The world over, Good Friday is known even in secular societies, as a very sacred Christian holiday, and the Government of India has also been gazetted as the national holiday since the last 72 years. Therefore, the forthcoming elections for certain groups by communal harmony to vitiate a lot of offends the sentiments of the Christian community in the country. Though Christians are a minor minority in demographics, its substantial contribution to social development, which is two to three, in this nation is undeniable. Instead of appreciating the Christian community for its selfless efforts to alleviate and ameliorate the nation in several spheres, scrapping Good Friday holiday was absolutely unfair and unjustifiable under any circumstances. Having appealed to the government authorities against this injustice who turned a deaf ear, the Christian community thru the * ADF * were forced to redressal from the High Court to the undo this injustice which they are the judiciary for the timely intervention. The Hon. Chief Justice has agreed with our arguments that a holiday of a religious minority can not be arbitrarily rejected which is against the basic tenets of secularism. We are also grateful to Sr.Counsel Haresh Jagtiani who took time out from his busy schedule to appear for us. We also thank the efforts of Adv.Jayant Bardeskar and Adv.Siju Thomas and Bro.Gul Kripalani with whose efforts we got the service of Sr.Counsel Haresh Jagtiani * Dr.Abraham Mathai * President-Indian Christian Voice & Advisor to Alliance Defending Freedom * (ADF) *

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *