108 जीवनदायनी के कर्मचारियों से खिलवाड़ बन्द करे सरकार – मोर्चा

108 जीवनदायनी के कर्मचारियों से खिलवाड़ बन्द करे सरकार – मोर्चा
 108 आपात सेवा व खुशियों की सवारी से जुड़े 800 कर्मचारियों का भविष्य चैपट करने की हो चुकी साजिश।
 10-11 वर्षों तक सेवा के उपरान्त हो जाएगा युवा बेकार।
 कर्मचारियों को कर दिया गया नोटिस जारी।
 ठेका चाहे जिसे दें, लेकिन किसी भी कर्मचारी का रोजगार न छिने।
 मोर्चा देगा राजभवन में दस्तक।
विकासनगर- मोर्चा कार्यालय में पत्रकारों से वार्ता करते हुए जनसंघर्ष मोर्चा अध्यक्ष एवं जी0एम0वी0एन0 के पूर्व उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह नेगी ने कहा कि लगभग 10-11 वर्षों से दुर्गम एवं अति दुर्गम क्षेत्रों एवं अन्य इलाकों में अपनी सेवा दे रहे 108 आपात सेवा तथा खुशियों की सवारी के कर्मचारियों को बाहर का रास्ता दिखाये जाने का सरकार का षडयन्त्र युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ है।
नेगी ने कहा कि सूत्रों से ज्ञात हुआ है कि सरकार ने अपने करीबी के खास सी0ए0एम0पी0ए0 को मनमाफिक ठेका देकर पूर्व में कार्यरत सभी कर्मचारियों को बाहर करने का खेल, खेला है तथा इसके तहत इन्होंने भर्ती प्रक्रिया भी शुरू कर दी है। 108 सेवा का अनुबन्ध 30 अप्रैल 2019 को समाप्त हो जाएगा तथा कर्मचारियों को 108 प्रबन्धन द्वारा नोटिस जारी किये जा चुके हैं।
नेगी ने कहा कि वर्षों से जीवनदायिनी 108 के लिए समर्पित युवाओं ने अपनी जी-तोड़ मेहनत से इस सेवा को आयाम दिये हैं तथा हजारों लोगों का जीवन बचाने का कार्य किया। सरकार की नाकामी का इससे बड़ा सबूत क्या हो सकता है कि प्रदेश में सरकारी संस्थानों में लगभग 60-70 हजार पद रिक्त हैं, लेकिन रोजगार देने के बजाय युवाओं का रोजगार छिनना बहुत बड़ा दुर्भाग्य है। कर्मचरियों को नोटिसी जारी होते ही इनके भविष्य पर गहरा संकट छा गया है। 
नेगी ने कहा कि सरकार ने ठेका/अनुबन्ध चाहे जिस भी कम्पनी को दिया हो,  लेकिन इस शर्त के साथ देना चाहिए था कि पूर्व में कार्यरत सभी कर्मचारियों को समायोजित कर पूर्व की भाॅंति उनके पद/अनुभव के आधार पर वेतन मिलता रहना चाहिए यानि वे सभी कर्मचारी अपनी सेवा में बने रहेंगे।
मोर्चा शीघ्र ही 108 कर्मचारियों के रोजगार को लेकर राजभवन में दस्तक देगा।
पत्रकार वार्ता में मोर्चा जिलाध्यक्ष डाॅ0 ओ0पी0 पंवार, दिलबाग सिंह, आषीश सिंह आदि थे

You May Also Like

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *